ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

विधायक के ड्राइवर को कोरोना कर्फ्यू का पालन कराना टीआई को पड़ा भारी

 टीकमगढ़। जिले में कलेक्टर द्वारा 1 जून की सुबह 6 बजे तक के लिए कोरोना कर्फ्यू लगाया है। कोरोना कर्फ्यू के दौरान सड़कों पर पुलिस तैनात है और नियमों का पालन करा रही है। सोमवार को विधायक के ड्राइवर को कोरोना कर्फ्यू का पालन कराना एक टीआइ को भारी पड़ गया। इतना ही नहीं एक घंटे में ही विधायक ने टीआइ को हटवाया दिया। पुलिस अधीक्षक ने तत्काल ही आदेश जारी कर निरीक्षक को लाइन अटैच कर दिया। एसपी की इस कार्रवाई से अब जिले के पुलिस कर्मियों का कहीं न कहीं मनोबल कम हो रहा है। बता दें कि पुलिस और प्रशासनिक कार्याें में टीकमगढ़ जिले में राजनीतिक हस्ताक्षेप रहता है। थाना प्रभारियों की पोस्टिंग से लेकर तबादले के कार्य माननीयों की मर्जी के बगैर नहीं होते हैं, लेकिन कोरोना काल के दौरान भी इस प्रकार के राजनीतिक हस्ताक्षेप चर्चा का विषय बना हुआ है। इंटरनेट मीडिया पर सुबह से ही यह मामला छाया हुआ है।

गौरतलब है कि कोरोना की चैन तोड़ने के लिए पुलिस और प्रशासन के कर्मचारी सड़काें पर मुस्तैद है। जतारा नगर में तेजी से कोरोना संक्रमण का फैलाव हुआ, लेकिन पुलिसकर्मियों ने जतारा नगर में जगह-जगह बेरीकेटिंग करते हुए बेवजह घूमने वालों को रोका है। ताकि संक्रमण का फैलाव न हो और लोग घराें में ही रहें। इसका ही नतीजा है कि अब नगर में संक्रमित नहीं मिल रहे हैं। लेकिन सोमवार एक निरीक्षक को नियमों का पालन कराना ही भारी पड़ गया। सोमवार को सुबह करीब 9 बजे जतारा विधायक और पूर्व मंत्री हरिशंकर खटीक का पलेरा निवासी ड्राइवर बबलू पाल पलेरा से जतारा आ रहा था। जतारा आने के दौरान वह सुनील नायक चौराहा पर पहुंचा, तब वहां पर पुलिस द्वारा बेरीकेट्स लगाए गए थे और कोरोना कर्फ्यू का लोगों को पालन कराया जा रहा था। विधायक के ड्राइवर बबलू पाल के वहां पहुंचने पर पहले तो आरक्षक भूपेंद्र ने बेरीकेट्स हटा दिया, लेकिन बाद में एसआई दयाराम चक्रवती द्वारा रोक लिया गया और नियमों का पालन करने की बात कही। तब ड्राइवर एसअाइ से अपशब्द बोलने लगा। ऐसे में एसआइ दयाराम चक्रवती तत्काल ही उसे टीआइ हिमांशु चौबे के पास ले गए। टीआइ हिमांशु चौबे ने ड्राइवर से जानकारी लेना चाही, तो वह उस दौरान गुटखा खाए हुए था। विधायक के ड्राइवर ने टीआइ के सामने थूंकते हुए ऐंठना शुरू कर दिया। तब टीआइ ने कहा कि नियम सभी के लिए एक बराबर हैं, नियमों का पालन नहीं करोंगे, तो अबकी बार कार्रवाई की जाएगी। इतनी समझाइश देने के बाद टीआइ हिमांशु चौबे ने ड्राइवर को जाने दिया। लेकिन ड्राइवर जैसे ही माननीय के पास पहुंचा, तो पुलिस अधीक्षक कार्यालय में खलबली मच गई।

नियमों के पालन कराने की बात विधायक और पूर्व मंत्री हरिशंकर खटीक को रास नहीं आई। उन्होंने तत्काल ही एसपी प्रशांत खरे आैर आइजी अनिल शर्मा से संपर्क कर टीआइ हिमांशु चौबे को हटवाने पर जोर दिया। एक घंटे में करीब साढ़े 10 बजे ही टीआइ हिमांशु चौबे को पुलिस लाइन अटैच करने का अादेश पुलिस अधीक्षक प्रशांत खरे ने जारी कर दिया। निरीक्षक हिमांशु चाैबे के स्थान पर कार्यवाहक निरीक्षक त्रिवेंद्र त्रिवेदी को थाना प्रभारी जतारा की कमान सौंप दी गई। राजनीतिक हस्ताक्षेप के चलते इस प्रकार की कार्रवाई अब चर्चा का विषय बनी हुई है। मामले में एसपी प्रशांत खरे से बात करना चाही, तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया। वहीं इस संबंध में जतारा विधायक हरिशंकर खटीक से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने फोन रिसीव करना उचित नहीं समझा।

मैं रोजाना ही पूरे दिन सड़कों पर घूमता था। कोरोना कफ्यू का पालन कराना मेरी ड्यूटी थी। मैंने ड्राइवर को समझाइश दी थी, लेकिन विधायक को वह रास नहीं आया। इसमें अब मैं क्या कर सकता हूं।