ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए प्रदेश सरकार खरीदेगी 40 हजार इंजेक्शन और 50 हजार टैबलेट

 भोपाल: प्रदेश भर में म्यूकरमाइकोसिस के मामले बढ़ते जा रहे हैं, जबकि इसके लिए जरूरी एंटी फंगल और दवाओं की भारी कमी है। निजी और सरकारी अस्पतालों में भर्ती मरीजों के लिए सरकार 40000 एंटीफंगल इंजेक्शन और 50 हजार टैबलेट खरीदेगी। मध्य प्रदेश पब्लिक हेल्थ सप्लाई कारपोरेशन ने मंगलवार को इस संबंध में कोटेशन बुलाया है। हफ्ते भर के भीतर कंपनियों से इंजेक्शन और टेबलेट की खरीदी की जाएगी। कोटेशन के मुताबिक लाईपोसोमल एंफोटेर्सिन बी इंजेक्शन 30 हजार डोज, पोसा गोनाजोल टेबलेट 50 हजार और पोसागोनज़ोल इंजेक्शन 10 हजार डोज खरीदने की लिए कोटेशन मंगाए हैं।

प्रदेश में अभी ब्लैक फंगस के 900 के करीब मरीज हैं। एक मरीज को 40 इंजेक्शन लगते हैं। हर दिन 4 इंजेक्शन लगाए जाते हैं। इस लिहाज से रोजाना 3600 इंजेक्शन की जरूरत है। हालत यह है हर दिन 13 सौ से 15 सौ इंजेक्शन ही मिल पा रहे हैं। निजी अस्पताल में भर्ती मरीजों को तो करीब 20 फीसद को ही इंजेक्शन मिल पा रहा है। इंजेक्शन के लिए इंदौर, भोपाल समेत शहरों में विवाद की स्थिति बन रही है। हर दिन हंगामा हो रहा है।