ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

कोरोना के बाद ब्रेन फाग बन रहा मुसीबत, भूलने और एकाग्रता भंग होने की शिकायत कर रहे मरीज

इंदौर । महालक्ष्मी नगर में रहने वाले 40 साल के बैंकर सुनील राठी (नाम परिवर्तित) ने एक सप्ताह पहले कोरोना को हरा दिया। करीब 15 दिन अस्पताल में रहने के बाद जब घर पहुंचे तो अचानक चीजें भूलने लगें। स्वजन पर चि़ड़चिड़ करने लगे। नींद नहीं आने और भूख न लगने पर स्वजन भी परेशान हो गए। जब डॉक्टरों से संपर्क किया तो पता चला कि यह ब्रेन फाग से मिले जुले लक्षण है। कोरोना को हराने वाले 50 प्रतिशत तक मरीजों में इस बात की संभावना होती है। हालांकि इंदौर में इस तरह के मामलों को गंभीरता से नहीं लेते हुए लोग डॉक्टरों के पास कम पहुंच रहे है।

वरिष्ठ मनोचिकित्सक डा. उज्जवल सरदेसाई बताते है, कोरोना को हरा चुके कई मरीज इस प्रकार की परेशानी उठा रहे है। ब्रेन फाग के लक्षण अवसाद से मिलते है। 40 से अधिक से आयु के मरीज इस प्रकार की परेशानी से घिर रहे है, जिनका हम उपचार कर रहे है। कोरोना को हरा चुके मरीजों का कहना होता है कि उन्हें थकान हो रही है, किसी काम में मन नहीं लग रहा हैं। उनका आत्मवश्विास अचानक से कम हो रहा है। ऐसे लोगाें को दूसरी आवश्यक दवाओं के साथ खून पतला करने की दवा भी दे रहे है। हम लगातार मरीजों के स्वजन को सलाह देते है कि ठीक हो चुके मरीजों का ध्यान रखे और कोई भी लक्षण होने पर हमसे संपर्क करें। हालांकि लोग इसको लेकर लापरवाही भी कर रहे हैं।

क्यों होता है ऐसा

डा. सरदेसाई ने बताया कोरोना संक्रमण के दौरान मरीजों में ब्लड क्लॉट यानी नसों में खून के थक्के जमना इसका कारण हो सकता है। संक्रमण के बाद व्यक्ति के शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं। इसमें बीमारी से जुड़ी कई नकारात्मक बातें होती हैं जो दिमाग पर असर करती हैं। इस स्थिति को ब्रेन फॉग कहते हैं। कोविड इलाज के दौरान मरीजों के दिमाग तक ठीक से ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाना भी इस बीमारी की वजह हो सकती है।कोरोना वायरस का नया रूप शरीर के बाकी अंगों के अलावा दिमाग पर भी असर डाल रहा है। कोविड से ठीक होने के बाद थकान, शरीर में दर्द, सिरदर्द और सोने में दिक्कत सहित अन्य लक्षण ब्रेन फॉग के हो सकते हैं। हालांकि कुछ दिक्कतें फेफड़ों, दिल, गुर्दे या अन्य अंगों को पहुंची क्षति की वजह से भी हो सकती हैं।

अस्पताल में मनोचिकित्सक कर रहे दौरे

सुपर स्पेशयलिटी अस्पताल के प्रभारी डा. एडी भटनागर बताते है। कोरोना के मरीज अवसाद में आ जाते है। इसके अलावा उनकी एकाग्रता भी भंग हो जाती है। भूख नहीं लगना जैसी शिकायते मरीज करते है, इसलिए हम अस्पताल में एक मनोचिकित्सक का दौरा करवाते है। वह लगातार कांउसलिंग करते रहते है, जिससे मरीज को काफी राहत मिलती है।

आपके मरीज में हो दिक्कत तो डाक्टर की ले सलाह

डॉक्टरों के मुताबिक कोरोना को हरा चुके मरीजोें अगर नींद न आए, लगातार चिडचिड करे, भूख न लगे और उन्हें कुछ समझ नहीं आए। बोलने में हकलाने लगे तो स्वजन को तत्काल डॉक्टराें की सलाह लेना चाहिए। काउंसलिंग और दवा से यह मरीज आसानी से ठीक भी हो जाते है।