ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

भोपाल में ​​​​एफसीआइ के रिश्‍वतखोर क्‍लर्क के घर से मिली करोड़ों की नकदी

भोपाल। फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एफसीआइ) के रिश्‍वतखोर क्‍लर्क किशोर मीणा के घर से करोड़ों रुपये की नकदी सीबीआइ की टीम ने बरामद की है। यहां से सोने और चांदी के जेवर भी जब्‍त किए गए हैं। जांच की कार्रवाई जारी है। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार, जब्‍त की गई नकदी दो करोड़ रुपये से अधिक है। मीणा और एफसीआइ के तीन अधिकारियों को शुक्रवार को गुरुग्राम स्थित सुरक्षा एजेंसी कैप्टन कपूर एंड संस से रिश्‍वत मांगने के मामले में गिरफ्तार किया गया था। सूत्रों का कहना है कि एफसीआइ के अधिकारी रिश्वत की रकम क्लर्क के घर पर रखते थे। यहां से एक डायरी भी मिली है, जिसमें रिश्‍वत लेने की जानकारी दर्ज है। सीबीआइ की कार्रवाई अभी जारी है।

सुरक्षा एजेंसी के बिलों के भुगतान के लिए रिश्वत मांगने के मामले में भारतीय खाद्य निगम (एफसीआइ) के भोपाल स्थित कार्यालय के चार अधिकारियों और कर्मचारियों को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) ने गिरफ्तार किया है। सीबीआइ ने इन्हें एक लाख रुपये लेते रंगे हाथों पकड़ा है। सुरक्षा एजेंसी का मुख्यालय गुरुग्राम में है। रिश्वत की राशि नहीं मिलने पर बिलों का भुगतान नहीं किए जाने पर एजेंसी ने सीबीआइ को शिकायत की थी। जानकारी के अनुसार, गुरुग्राम स्थित सुरक्षा एजेंसी कैप्टन कपूर एंड संस को इस वर्ष जनवरी में गार्ड की तैनाती के लिए 11 लाख 30 हजार रुपये प्रतिमाह पर टेंडर मिला था। एफसीआइ के अधिकारी एजेंसी से बतौर रिश्वत प्रतिमाह 10 फीसद कमीशन मांग रहे थे। जब इन्हें रिश्वत नहीं दी गई तो बिलों का भुगतान रोक दिया गया।

एजेंसी के वरिष्ठ अधिकारियों ने मामले के निपटारे के लिए चर्चा की तो एफसीआइ के अधिकारियों ने पुराने बिलों के भुगतान के लिए 50 हजार और नए बिलों के भुगतान के बदले 70 हजार रुपये की मांग की। गुरुवार को एजेंसी की ओर से इस संबंध में सीबीआइ को शिकायत की गई। आरोपितों को रंगे हाथ पकड़ने के लिए शुक्रवार शाम को एक लाख रुपये लेने के लिए मैनेजर (अकाउंट) को भोपाल के माता मंदिर क्षेत्र में बुलाया गया। रिश्वत की राशि लेने के बाद एफसीआइ के डिविजनल मैनेजर हर्ष इनायका, मैनेजर (अकाउंट) अरुण श्रीवास्तव, मैनेजर (सिक्यूरिटी) मोहन पराते और क्लर्क किशोर मीणा को गिरफ्तार कर लिया गया। देर रात तक आरोपितों के ठिकानों पर जांच जारी थी। बताते गए एक-दूसरे का नाम : सूत्रों ने बताया कि रिश्वत की राशि लेने के लिए एक कार से मैनेजर (अकाउंट) अरुण श्रीवास्तव आया था। जब उसे पकड़ा गया तो उसने कहा कि इसमें मेरा ही हिस्सा नहीं है।

मैनेजर (सिक्यूरिटी) मोहन पराते भी शामिल है। सीबीआइ की टीम ने श्रीवास्तव के फोन से पराते को रिश्वत लेने बुलाया। जब पराते भी सीबीआइ के शिकंजे में फंस गया तो उसने कहा कि इसमें डिविजनल मैनेजर हर्ष इनायका भी शामिल हैं। इनके फोन से इनायका को रिश्वत की राशि मिलने की जानकारी दी तो इनायका ने उन्हें राशि लेकर ऑफिस आने को कहा। सीबीआइ टीम भी इनके साथ थी। श्रीवास्तव और पराते ने इनायका को रिश्वत की रकम दी तो इनायका ने क्लर्क किशोर मीणा को राशि देते हुए सुरक्षित रखने को कहा। सभी की संलिप्तता की पुष्टि होने पर सीबीआइ ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया। मीणा जिस स्टोर रूम में रिश्वत की राशि रखने गया था, वहां से भी सीबीआइ ने नकदी बरामद की है।