ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

पीएम की बैठक में ममता के शामिल नहीं होने पर राज्यपाल का निशाना, बोले- ‘जन सेवा पर अहंकार हावी’

कोलकाता। बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने 28 मई को यास चक्रवात के बाद हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए राज्य के दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के शामिल नहीं होने को लेकर उनपर निशाना साधा है। राज्यपाल ने सोमवार आधी रात में ट्वीट करके इसको लेकर मुख्यमंत्री की आलोचना करते हुए कहा कि जनता की सेवा पर अहंकार हावी है।

मुख्यमंत्री के खिलाफ यह बयान देकर राज्यपाल ने एक बार फिर ताजा विवाद छेड़ दिया है। राज्यपाल ने यह भी दावा किया कि पश्चिम मेदिनीपुर जिले के कलाइकुंडा में हुई समीक्षा बैठक से पहले ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उन्हें संकेत दे दिया था कि यदि विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी इसमें शामिल होंगे तो वह बैठक में हिस्सा नहीं लेंगी। धनखड़ ने अपने ट्वीट में लिखा, ’27 मई की रात 23.16 पर फोन करके ममता ने प्रधानमंत्री द्वारा आहूत समीक्षा बैठक में सुवेंदु अधिकारी की उपस्थिति को लेकर बैठक का बॉयकाट करने के संकेत दे दिए थे। संवैधानिक दायित्वों पर अहंकार आया आड़े, गणतंत्र और संघीय ढांचे की मान्य परंपरा को किया क्षत-विक्षत।’

बता दें कि इस समीक्षा बैठक में राज्यपाल के अलावा केंद्रीय मंत्री देवश्री चौधरी एवं राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी शामिल हुए। वहीं, मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को आधे घंटे तक इंतजार करवाया। आधे घंटे की देरी से ममता मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय के साथ वहां पहुंचीं और अलग से प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात कर सिर्फ चक्रवात से हुए नुकसान की रिपोर्ट उन्हें सौंप कर कुछ ही मिनट के अंदर तुरंत वहां से निकल गईं। प्रधानमंत्री की बैठक में नहीं पहुंचने को लेकर ममता की काफी आलोचना हुई।