ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी

रूसी राष्टपति पुतिन के एजेंटों ने लिज ट्रस का फोन किया था हैक, शीर्ष गुप्त सूचनाएं हुई लीक

लंदन । ब्रिटेन की हालही में पीएम पद छोड़ने वाली पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री लिज ट्रस को लेकर एक बड़ा खुलासा सामने आया है। दरअसल, लिज का निजी फोन रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के लिए काम कर रहे संदिग्ध एजेंटों ने हैक कर लिया था। यह हैकिंग तब की गई थी जब वह विदेश मंत्री थीं। इस बात की जानकारी ब्रिटेन के प्रमुख मीडिया खबरों ने दी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि उन एजेंट्स ने ट्रस के करीबी दोस्त क्वासी क्वार्टेंग के साथ निजी मैसेजेज के आदान-प्रदान के अलावा अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ बातचीत के ‘टॉप सीक्रेट डिटेल्स’ तक पहुंच प्राप्त की, जो बाद में वित्त मंत्री बने।
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार माना जा रहा है कि संदेशों में यूक्रेन में युद्ध के बारे में वरिष्ठ अंतरराष्ट्रीय विदेश मंत्रियों के साथ चर्चा शामिल थी, जिसमें हथियारों के शिपमेंट के विवरण भी शामिल थे। मेल ने अज्ञात स्रोतों का हवाला देते हुए कहा कि एक साल तक के संदेशों को डाउनलोड किया गया। ट्रस के फोन हैकिंग की खबर सामने आने के बाद ब्रिटेन में बवाल मच गया है। ब्रिटिश सरकार के एक प्रवक्ता ने ‘व्यक्तियों की सुरक्षा व्यवस्था’ पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। प्रवक्ता ने कहा कि साइबर खतरों से बचाव के लिए सरकार के पास मजबूत सिस्टम हैं। इसमें मंत्रियों के लिए नियमित सुरक्षा ब्रीफिंग, और उनके व्यक्तिगत डेटा की सुरक्षा और साइबर खतरों को कम करने की सलाह शामिल है।
रिपोर्ट के मुताबिक ट्रस के फोन हैक होने का पता दो महीने पहले ही चला चुका था। उस समय ट्रस प्रधानमंत्री बनने के लिए चल रहे नेतृत्व अभियान का हिस्सा थीं। बाद में वह प्रधानमंत्री भी बनीं, हालांकि पिछले हफ्ते ही उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा। उनके पद छोड़ने के बाद ऋषि सुनक प्रधानमंत्री बनने में सफल रहे।