ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

लाकडाउन में कई विभागों में अब तक वेतन के लाले

जबलपुर। रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में अतिथि विद्वानों के वेतन भुगतान में भेदभाव एवं लापरवाही की जा रही है। एक और जहां अधिकांश विभागों में वेतन का भुगतान कर दिया गया है तो वहीं कुछ विभागों में एक माह बीतने के बाद भी वेतन जारी नहीं किया गया।

भौतिकी, कौशल विकास संस्थान, ग्रन्थालय विज्ञान ,भूगोल सहित अन्य प्रमुख विभागों के अतिथि शिक्षकों को वेतन भुगतान नहीं किए जाने को लेकर अतिथि विद्वानों में खासी नाराजगी व्याप्त है। बताया जाता है कोरोना कर्फ्यू के दौरान जहां विश्वविद्यालय के समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों तथा दैनिक वेतन भोगी, मजदूरों आदि का वेतन बिना कार्य व उपस्थिति के सत्यापन के कर दिया गया वहीं अतिथि विद्वानों को अपनी उपस्थिति दर्ज कराने व सत्यापन के लिए विभाग प्रभारियों के घर तक दौडऩा पड़ा

उसके बाद जाकर आधे विभागों का पिछले दिन भुगतान हुआ। जिन विभागों के अतिथि शिक्षकों ने नियमों का पालन करते हुए कोरोना कफ्र्यू का उल्लघंन नहीं किया उन्हें हठधर्मिता वश वेतन भुगतान से वंचित कर दिया गया। करेंगे शिकायत अतिथि विद्वान विश्वविद्यालय की कार्यप्रणाली पर नाराजगी दर्ज करते हुए कहा कि एक माह बाद भी कई विभागों में वेतन का भुगतान कुलपति के निर्देश के बाद भी नहीं हो सका है। वर्तमान महामारी के समय में जिन अतिथि शिक्षकों का वेतन भुगतान नहीं किया गया है, उसके लिए उत्तरदायी अधिकारी के विरुद्ध जांच करने एवं अपने कार्यों के निर्वहन में अनियमितता बरते पर शासन स्तर पर इस मामले को लेकर शिकायत की जा रही है कुछ मुख्यमंत्री तक शिकायत भेज रहे है।