ब्रेकिंग
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने 21 सीटों पर प्रत्याशियों के नामों को दी स्वीकृति न्यू विस्टा लिमिटेड रिसदा ने धूमधाम से मनाया 77 वा स्वतंत्रता दिवस समारोह शिवरतन शर्मा ने बघेल सरकार पर साधा निशाना, कहा- किसानों पर थोपी जा रही अमानक वर्मी खादभारतीय जनता पार्टी ने भाटापारा विधानसभा सहित प्रदेश में व्याप्त ... भाटापारा पंचशील नगर में जिला बलौदाबाजार भाटापारा कि साइबर टीम, थाना भाटापारा शहर एवम् आबकारी विभाग बलोदाबजार की संयुक्त कार्यवाही लगभग 100 नग देशी मशा... भाटापारा विधानसभा के वरिष्ठ कांग्रेसी लीडर राधेश्याम शर्मा (फग्गा) ने विधानसभा चुनाव के लिए की दावेदारी पेश नगर में अपनी मिलनसारिता, स्नेह व धार्मिक, ... किसानो के हित में समर्पित सुशील शर्मा भूपेश सरकार की योजनाओ को धरातल पर क्रियान्वयन कराने में अग्रणी भूमिका निभा रहे किसानो के हितार्थ काम कृषि ऊपज मंडी कर रही है-गिरीश देवाँगन प्रदेश में सर्वे कराना भूपेश सरकार का क्रांतिकारी कदम-सुशील शर्मा छत्तीसगढ को देश का शिखर बनाना है – ओम माथुर भाजपा की जंगी आम सभा भेंट मुलाकात कार्यक्रम में जिला या निगम की बड़ी घोषणा की उम्मीद ध्वस्त,जनमानस में निराशा

शायर मंजर भोपाली के घर का बिजली बिल आया 36 लाख रुपये, विद्युत कंपनी ने स्‍वीकारी गड़बड़ी

भोपाल। विद्युत उपभोक्‍ताओं को अक्‍सर बिजली बिलों में गड़बड़ी के झटके लगते रहते हैं। ताजा मामला भोपाल के मशहूर शायर मंजर भोपाली का है, जिनके घर का बिजली बिल 36 लाख 86 हजार 660 रुपए आया है। यह बिल मई महीने की खपत का है, जिसे शायर ने रविवार इंटरनेट मीडिया पर साझा कर उनके साथ मजाक बताया है। वहीं बिजली कंपनी ने कहा कि रीडिंग लेने में मीटर रीडर से चूक हुई थी, जिसे तीन दिन पहले चार जून को सुधार दिया था। वास्तविक खपत 900 यूनिट है, जिसका बिल करीब 11000 रुपए है। यह जानकारी मंजर भोपाली को दे दी गई है।

ऐसे हुई गड़बड़ी

बिजली कंपनी ने हाल में मीटर रीडर बदले हैं। नया रीडर रीडिंग लेने चार जून को पहुंचा था। बिजली कंपनी के अधिकारियों के मुताबिक मंजर भोपाली के घर पर मीटर 15 फीट ऊपर लगा है। मीटर रीडर ने ठीक से रीडिंग देखने की बजाय नीचे से रीडिंग देखी थी। इस तरह उसने अभी तक की कुल खपत यूनिट 44 हजार को 4 लाख पढ लिया था, लेकिन उसे लगा कि इतनी खपत नहीं हो सकती तो उसने बिल की हार्ड कॉपी नहीं दी थी। यह भी बताया था कि बिल की जांच करने के बाद हार्ड कॉपी दी जाएगी। हालांकि मीटर रीडिंग को ऑनलाइन व्यवस्था के तहत जोड़ा गया है, इसलिए रीडिंग लेते ही यह बिल तुरंत ऑनलाइन हो गया। जिसका मैसेज ऑनलाइन बिल भुगतान करने वाले उपभोक्ताओं के पास पहुंच जाता है।

मंजर भोपाली ने इंटरनेट मीडिया पर डाली है यह पोस्ट

एमपी गजब है, सब से अजब है। इस नारे की सच्‍चाई 36,86,660 रुपए का यह मेरे घर का एक महीने (मई) का बिल दर्शाता है। इस तरह का मजाक कोरोना काल में एक शायर के लिए ठीक नहीं है। लॉकडाउन और कोविड की वजह से शायर के कलम की स्याही तक सूख चुकी है। ऐसे में यह 36 लाख रुपए कहां से भरे जाएं? ये बिल रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचारी का खुला दावतनामा है।

हमें भी पता है कि किसी उपभोक्ता का एक महीने का घरेलू बिजली बिल 36 लाख रुपए का किसी भी स्थिति में नहीं हो सकता। यह साफ तौर पर रीडिंग लेने में चूक है, जिसे रीडिंग लेने के तुरंत बाद स्वीकार कर लिया था और उसी दिन सुधार की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। मैंने खुद मंजर भोपाली से दूरभाष पर बात करके पूरी जानकारी दे दी है।-डीके तिवारी, मध्य प्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी, भोपाल