Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

वक्फ बोर्ड ने प्रदेशभर में शुरू किया संपत्तियों का सर्वे

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य वक्फ बोर्ड ने प्रदेशभर में वक्फ बोर्ड की संपत्तियों का सर्वेक्षण कार्य प्रारंभ कर दिया है। इसके लिए प्रत्येक जिले के अतिरिक्त कलेक्टर अथवा वरिष्ठ डिप्टी कलेक्टर को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। सभी जिलों के नोडल अधिकारी अपनी देखरेख में वक्फ बोर्ड की संपत्ति का निरीक्षण करवाएंगे

वक्फ बोर्ड की ओर से प्रदेशभर की मस्जिदों के मुतवल्लियों, दरगाह, कब्रिस्तान के जिम्मेदारों और मुस्लिम समाज के लोगों से अपील की है कि वे इस सर्वे कार्य में सहयोग देकर सही जानकारी उपलब्ध करवाएं।

राजस्व रिकॉर्ड में करेंगे दर्ज

इस सर्वे कार्य में शासकीय राजपत्र 1989, औकाफ की पंजी, एवं राज्य गठन पश्चात वाकिफ द्वारा वक्फ की गई संपत्तियों को सर्वेक्षण कार्य में शामिल किया जाएगा। इससे सभी जिलों के गांवों, कस्बों में स्थित वक्फ संपत्ति का चिह्नांकन संभव होगा तथा इन संपत्तियों को राजस्व रिकॉर्ड में शामिल किया जा सकेगा।

सर्वेक्षण कार्य होने से प्रदेशभर में वक्फ की संपत्ति विलुप्त होने से बचेगी। कई संपत्तियों पर कब्जा हो चुका है, उसका भी पता चलेगा साथ ही राजस्व रिकॉर्ड में दर्ज होने से अतिक्रमण, विलोपन जैसे मुद्दों से बचा जा सकेगा। इसके लिए जल्द से जल्द जानकारी उपलब्ध कराएं।

हर जिले में तीन सदस्य शामिल

सर्वे कार्य के लिए राज्य वक्फ बोर्ड ने प्रत्येक जिले में मुस्लिम समुदाय के तीन सदस्यों को शामिल किया है, जो संपत्ति का सर्वे करवाने में सहयोग देंगे। नोडल अधिकारियों से समन्वय कर जानकारी एकत्रित करेंगे। मुस्लिम समाज से अपील की गई है कि जहां भी वक्फ बोर्ड की संपत्ति का पता चले उसे रिकॉर्ड में दर्ज कराने सहयोग करें।