Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

Google ने फादर्स डे पर बनाया खास डूडल, GIF और ग्रीटिंग कार्ड के जरिए दी शुभकामनाएं

नई दिल्ली। आज यानी 20 जून को पूरे विश्व में फादर्स डे (Father’s Day 2021) मनाया जा रहा है। इस मौके पर दिग्गज टेक कंपनी Google ने खास डूडल बनाया है। कंपनी ने इस डूडल के जरिए दुनियाभर के पिताओं को सम्मान दिया है। डूडल की बात करें तो इसमें जीआईएफ और ग्रीटिंग कार्ड समेत कई सारे आकर्षक रंगो का उपयोग किया गया है।

Google का कहना है कि हमने अपने डूडल के माध्यम से फादर्स डे की शुभकामनाएं दी है। इस डूडल को डूडलर ओलिविया व्हेन ने तैयार किया है। इसमें स्टॉप-मोशन का आर्टवर्क का उपयोग किया गया है। यह गूगल का नौवां डूडल है। आपको बता दें कि इस डूडल पर क्लिक करने पर फादर्स डे से जुड़ी जानकारी मिलेगी

यूजर्स गूगल के इस डूडल को अपने पिता को भेजकर फादर्स डे की शुभकामनाएं दे सकते हैं। यह डूडल पुराने दिनों की याद दिलाता है, जब लोग अपने हाथों से ग्रीटिंग कार्ड बनाया करते थे।

Father’s Day 2021 का इतिहास

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दुनिया में पहली बार सन 1907 में अनाधिकृत और साल 1910 में आधिकारिक रूप से फादर्स डे मनाया गया था। इतिहासकारों में फादर्स डे मनाए जाने को लेकर वैचारिक मतभेद हैं। कई जानकारों का कहना है कि पहली बार फादर्स डे 19 जून, 1907 को मनाया गया था। जब वर्जीनिया के एक खनन उद्योग में विस्फोट के चलते 200 से अधिक श्रमिकों की मौत हो गई थी। उस समय लोगों ने मृत श्रमिकों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए फादर्स डे मनाया था।

जबकि कुछ इतिहासकार सोनोरा स्मार्ट डोड की कहानी को सच मानते हैं। इतिहासकारों की मानें तो सोनोरा स्मार्ट डोड की मां की मौत के बाद उसका पालन-पोषण पिता विलियम स्मार्ट ने किया था। एक बार की बात है जब डोड रविवार को चर्च में प्रार्थना के लिए गई थी। उस दिन चर्च के पादरी यानी बिशप मातृत्व शक्ति विषय पर उपदेश दे रहे थे। बिशप के उपदेश से डोड बहुत प्रभावित हुई

हालांकि, डोड की मां नहीं थी और डोड समेत सभी भाई-बहनों की परवरिश उनके पिता कर रहे थे। इसके लिए डोड मदर्स डे की तर्ज पर फादर्स डे मनाने की सोची। इसके बाद 19 जून 1909 को पहली बार डोड ने फादर्स डे मनाया।