Jain
ब्रेकिंग
प्लॉट खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान, बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा और होगा भरपूर लाभ कर्ज से मुक्ति के लिए आजमाएं वास्तु शास्त्र से जुड़े उपाय भगवान कृष्ण से सम्बंधित 13 खास मंदिर 14 घंटे रेस्क्यू चलने के बावजूद 17 लोगों को नहीं खोज सके; घाटों पर गोताखोर तैनात जहां सीएम मनाएंगे अमृत महोत्सव, वहां कलेक्टर-आईजी ट्रैक्टर से पहुंचे भाद्रपद माह में जन्माष्टमी और गणेश उत्सव जैसे कई बड़े त्योहार घर में इस जगह पर रखें फेंगशुई ड्रैगन, सकारात्मक ऊर्जा का होगा संचार और बरसेगा धन इन लॉकेट को पहनने के जानें फायदे और नुकसान, धारण करने के जानें नियम सुबह से खिली है तेज धूप; जुड़ने लगे हैं गंगा के घाट अंबाला कैंट के PWD रेस्ट हाउस में सुनेंगे शिकायतें

ट्रिपल आइटीडीएम में शुरू हुआ तीन दिवसीय टॉय हैकाथॉन का ग्रैंड फिनाले

जबलपुर। ट्रिपल आइटीडीएम जबलपुर को भारत के स्वदेशी खिलौना उद्योग को बढ़ावा देने के लिए एमआइसी, एआइसीटीई द्वारा टॉयकाथान 2021 के ग्रैंड फिनाले की मेजबानी के लिए चुना गया है। जो सरकार द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम है। देश के विभिन्न हिस्सों से करीब 14 टीमों ने इसमें भाग लेने की पुष्टि की है। जिसकी शुरुआत ट्रिपलआइटीडीएम में सुबह 8 बजे से हो चुकी है। उद्घाटन मुख्य अतिथि निदेशक ट्रिपलआइटीडीएम प्रो. संजीव जैन ने किया। साथ ही खिलौना उद्योग में पीएम मोदी के वोकल फॉर लोकल पर जोर देते हुए शिक्षा मंत्रालय ने बहु ट्रैक राष्ट्रव्यापी मंत्रालयी टाॅयकथान का विचार प्रस्तुत किया। शिक्षा मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से पांच अन्य मंत्रालयों के समन्वय से टाॅयकथान 2021 का आयोजन किया जा रहा है। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षापरिषद में शिक्षा नवाचार प्रकोष्ठ टॉयकथान के आयोजन के लिए नोडल एजेंसी के रूप में काम कर रहा है।

इस हैकेथॉन के लिए दो अवधारणाएं रखीं गईं थीं। भौतिक व डिजिटल। वर्तमान में कोविड को देखते हुए 22 से 24 जून तक अभी डिजिटल टॉयकाथान का आयोजन किया जा रहा है। डिजिटल टॉयकाथॉन में 1567 चयनित टीमें हैं और 85 नोडल अधिकारी। ग्रैंड फिनाले में चयनित टीमें अपने खिलौनों को पूरी पैनल के सामने प्रस्तुत कर रही हैं। जिसमें प्रमुख संस्थानों के विशेषज्ञ शामिल हो रहे हैं। हैकाथॉन के दौरान टीमों को विशेषज्ञों की सलाह मिलेगी और सुझाव भी दिए गए जाएंगे। जिसके अनुसार टीमों को अपने खिलौने व खेलों में सुधार करना होगा। इस आयोजन का उद्देश्य खिलौना आधारित शिक्षाशास्त्र शिक्षण और सीखने के सबसे प्रभावी तरीकों को बढ़ावा देना है। टॉयकथान न केवल युवा दिमागों को राष्ट्रीय संस्थानों से जोड़ने का काम करेगा बल्कि खिलौना उद्योग में नवाचार के लिए भी प्रमुख भूमिका निभाएगा।