Jain
ब्रेकिंग
प्लॉट खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान, बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा और होगा भरपूर लाभ कर्ज से मुक्ति के लिए आजमाएं वास्तु शास्त्र से जुड़े उपाय भगवान कृष्ण से सम्बंधित 13 खास मंदिर 14 घंटे रेस्क्यू चलने के बावजूद 17 लोगों को नहीं खोज सके; घाटों पर गोताखोर तैनात जहां सीएम मनाएंगे अमृत महोत्सव, वहां कलेक्टर-आईजी ट्रैक्टर से पहुंचे भाद्रपद माह में जन्माष्टमी और गणेश उत्सव जैसे कई बड़े त्योहार घर में इस जगह पर रखें फेंगशुई ड्रैगन, सकारात्मक ऊर्जा का होगा संचार और बरसेगा धन इन लॉकेट को पहनने के जानें फायदे और नुकसान, धारण करने के जानें नियम सुबह से खिली है तेज धूप; जुड़ने लगे हैं गंगा के घाट अंबाला कैंट के PWD रेस्ट हाउस में सुनेंगे शिकायतें

सीएम भूपेश बघेल बोले- हम दलबदल नहीं चाहते, हमारे पास पर्याप्त विधायक

रायपुर जरा हटके। मरवाही उपचुनाव से पहले मंत्री जयसिंह अग्रवाल के बयान के बाद जोगी कांग्रेस में खींचतान मची हुई है। सियासत के बीच मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने साफ कर दिया कि जोगी कांग्रेस के विधायक कांग्रेस में आना चाहते हैं, लेकिन वह दलबदल नहीं चाहते ।उन्होंने कहा कि हमारे पास पर्याप्त विधायक है। इसलिए हम जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं करना चाहते हैं। लेकिन इस पर हाईकमान को ही फैसला करना है। दूसरी तरफ देवव्रत सिंह ने दो टूक शब्दों में स्वीकार किया कि उनको कांग्रेस में ही अपना भविष्य दिखता है और वे उचित समय आने पर कांग्रेस में शामिल हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में दो ही पार्टी कांग्रेस और भाजपा का भविष्य है। कांग्रेश हमारे खून में है। कांग्रेस से ही 3 बार विधायक और एक बार सांसद बना। भावनात्मक रूप से कांग्रेसी है लेकिन संवैधानिक रूप से जोगी कांग्रेस के विधायक हैं। इसलिए अभी हम पार्टी में बने रहेंगे। यदि चार में से तीन विधायक कांग्रेस में शामिल होने पर सहमत होते हैं और कांग्रेस इस पर सहमति देती है तो हम कांग्रेस पार्टी में जाएंगे।देवव्रत ने कहा कि जोगी कांग्रेस के कांग्रेस में विलय की बात पिछले डेढ़ साल से चल रही है।
विधायक देवव्रत सिंह के बयान के बाद बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा ने भी देवव्रत के साथ खड़े होने की बात कही है। उन्होंने कहा कि वे विधायक देवव्रत के साथ हैं। देवव्रत जिस पार्टी में जाना चाहते हैं, मैं उनके साथ रहूंगा। उन्होंने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस की सुप्रीमो रहे अजीत जोगी उनके राजनीतिक गुरु थे। लेकिन अब उनके जाने के बाद वे विधायक देवव्रत सिंह के साथ हैं।