Jain
ब्रेकिंग
प्लॉट खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान, बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा और होगा भरपूर लाभ कर्ज से मुक्ति के लिए आजमाएं वास्तु शास्त्र से जुड़े उपाय भगवान कृष्ण से सम्बंधित 13 खास मंदिर 14 घंटे रेस्क्यू चलने के बावजूद 17 लोगों को नहीं खोज सके; घाटों पर गोताखोर तैनात जहां सीएम मनाएंगे अमृत महोत्सव, वहां कलेक्टर-आईजी ट्रैक्टर से पहुंचे भाद्रपद माह में जन्माष्टमी और गणेश उत्सव जैसे कई बड़े त्योहार घर में इस जगह पर रखें फेंगशुई ड्रैगन, सकारात्मक ऊर्जा का होगा संचार और बरसेगा धन इन लॉकेट को पहनने के जानें फायदे और नुकसान, धारण करने के जानें नियम सुबह से खिली है तेज धूप; जुड़ने लगे हैं गंगा के घाट अंबाला कैंट के PWD रेस्ट हाउस में सुनेंगे शिकायतें

रायपुर के तालाबों की बदलेगी सूरत और संवरेगा हमारा कल

रायपुर। प्रदेश सहित राजधानी में तेजी से गिरते जलस्तर ने सभी को यह सोचने पर मजबूर कर दिया है कि आखिर इसे कैसे रिचार्ज करें? हालांकि इसके लिए एक ओर नगर निगम ने वाटर हार्वेस्टिंग के लिए अभियान चला रखा है तो दूसरी ओर जल स्रोत के सबसे बड़े आधार तालाबों की सुध रायपुर स्मार्ट सिटी ने ली है।

स्मार्ट सिटी ने पिछले तीन सालों में शहर के बूढ़ातालाब, बंधवा तालाब, मच्छी तालाब, डबरी तालाब, तेलीबांधा तालाब, नरैया तालाब, जोरा तालाब और समेत कई अन्य तालाबों की सफाई करवाई और उसका सुंदरीकरण करवाया। विशेषज्ञों का मानना है कि जिससे इन तालाबों के पानी का स्रोत दोबारा खुल गया। इसके चलते 1.20 लाख क्यूबिक पानी रिचार्ज होगा। इससे आसपास के इलाकों का जलस्तर नीचे नहीं जाएगा।

26 तालाबों का होगा सुंदरीकरण

स्मार्ट सिटी ने शहर के 26 अन्य तालाबों के सुंदरीकरण और साफ-सफाई के लिए टेंडर जारी किया है। जल्द ही इन तालाबों की सूरत भी बदलेगी। स्मार्ट सिटी के अधिकारी का कहना है कि तालाबों की साफ-सफाई और उसके अस्तित्व को बचाने के लिए लगातार काम किया जा रहा है। स्मार्ट सिटी ने 26 तालाबों की सूरत बदलने के लिए 20 करोड़ की लागत से टेंडर जारी किया गया है, जिसमें तालाबों के किनारे पत्थर, पाथवे, घाट, मलवा और कपड़ा बदलने के लिए घाट का निर्माण किया जाएगा।

227 तालाब हुआ करते थे शहर में

राजधानी रायपुर में कभी 227 तालाब हुआ करते थे और इसे तालाबों और मंदिरों के नाम से जाना जाता था। मगर अब तक 53 तालाब अतिक्रमण के कारण अपना अस्तित्व खो चुके हैं। अब सिर्फ 174 तालाब ही बचे हैं। इनमें से 12 की सफाई करवाई जा चुकी है। शेष 162 तालाबों की अब तक सफाई नहीं करवाई गई है। इतना ही नहीं महाराजबंध तालाब में तो शहर के नालों का पानी मिल रहा है।

स्रोत खुलने से इतना पानी होगा रिचार्ज

वरिष्ठ भू जल विज्ञानी के. पाणिग्रही ने बताया कि शहर के 12 तालाबों की सफाई के बाद उसके स्रोत दोबारा खुल गए है। बारिश के मौसम में एक तालाब से करीब दस हजार क्यूबिक मीटर पानी अतिरिक्त रिचार्ज होगा। यानी 12 तालाब से कुल 1.20 लाख क्यूबिक मीटर पानी रिचार्ज होगा। एक क्यूबिक (घनमीटर) मीटर पानी एक हजार लीटर पानी के बराबर है। इससे आसपास के इलाकों का जल स्तर सुधरेगा और गर्मी के दिनों में पंप और बोर सूखने की समस्या कम होगी।

प्रमुख तालाब जिनकी बदलेगी सूरत

-शीतला तालाब, खम्हारडीह

-मलसाय तालाब, पुरानी बस्ती

-सरोना तालाब, सरोना

-सोनडोंगरी तालाब, सोनडोंगरी

-लालपुर तालाब, लालपुर

-पहाड़ी तालाब, गुढ़ियारी

-पंडरी तालाब, पंडरी

-साहू तालाब, फाफाडीह

एक दर्जन तालाबों का सुंदरीकरण किया जा चुका है

‘राजधानी के एक दर्जन तालाबों का सुंदरीकरण किया जा चुका है। 26 तालाबों की सफाई और सुंदरीकरण के लिए स्वीकृति मिली है, जल्द ही इन तालाबों की भी सूरत बदल जाएगी।’

– एसके सुंदरानी, प्रबंध संचालक स्मार्ट सिटी रायपुर