Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

आपातकाल को लेकर PM मोदी का कांग्रेस पर वार, कभी नहीं भूल सकते वो काला दिन

आपातकाल के 46 साल पूरे होने पर आज एक बार लोगों के फिर से पुराने जख्म हरे हो गए हैं। भाजपा नेता कांग्रेस की जमकर निंदा कर रहे हैं और आपातकाल के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले ‘सत्याग्रहियों’ को याद किया जा रहे है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आपातकाल को लेकर सिलसिलेवार कई ट्वीट किए और कांग्रेस पर निशाना साधा। पीएम मोदी ने कहा कि उस काले दिन को हम कभी नहीं भूल सकते हैं। 1975 से 1977 के दौरान लोगों ने विनाश का वो तांडव देखा जिसे भुलाया नहीं जा सकता।

पीएम मोदी ने कहा कि आज हमें संकल्प लेना है कि हम भारत की लोकतांत्रिक भावना को मजबूत करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे और हमारे संविधान में निहित मूल्यों पर खरा उतरेंगे। पीएम मोदी ने कहा कि आपातकाल के दौरान कांग्रेस ने लोकतांत्रिक लोकाचार को कुचला, उन दिनों को नहीं भुलाया जा सका।

PunjabKesari

प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट के साथ भाजपा की तरफ से इंस्टाग्राम पर जारी किए गए एक लिंक को भी शेयर किया जिसमें आपातकाल के दौर में भगत सिंह और चंद्रशेखर आजाद पर बनी फिल्मों, किशोर कुमार के गानों, महात्मा गांधी और रवींद्रनाथ टैगोर के उद्धरणों तक पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। पीएम मोदी ने कहा, ‘‘इस प्रकार से कांग्रेस ने हमारे लोकतंत्र को कुचल दिया था। बता दें कि देश में 25 जून 1975 से 21 मार्च 1977 के बीच 21 महीने की अवधि तक आपातकाल लागू रहा।

इंदिरा गांधी उस समय देश की प्रधानमंत्री थीं। 25 जून 1975 को आपातकाल की घोषणा के साथ ही सभी नागरिकों के मौलिक अधिकार खत्म कर दिए गए थे। अभिव्यक्ति का अधिकार नहीं, लोगों के पास जीवन का अधिकार भी नहीं रह गया था। प्रेस सेंसरशिप, नसबंदी, दिल्ली के सौंदर्यीकरण के नाम पर जबरन झुग्गियों को उजाड़ा गया। कई ऐसे कड़े फैसले लिए गए जिस कारण भारत के आपातकाल को देश का सबसे काला दिन कहा जाता है।