Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

चिल्ड्रन वार्ड में तीन माह से खराब थे एसी, विधायक कुर्सी डालकर बैठेे ताे हुए चालू

ग्वालियर। कमलाराजा अस्पताल में चिल्ड्रन वार्ड में कई दिनाें से एसी खराब पड़े हुए थे। जिसके कारण मरीजाें काे खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। डाक्टर भी कई बार लिखकर दे चुके थे, लेकिन रिपेयरिंग नहीं हाे पा रही थी। विधायक प्रवीण पाठक काे जब जानकारी लगी ताे वह खुद ही इलेक्ट्रिशियन लेकर पहुंच गए। इसके बाद तीन एसी ताे विधायक ने सामने खड़े हाेकर ठीक करा दिए थे। बाकी के चार एसी भी अब चालू हाे गए हैं।

जयाराेग्य अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही मरीजाें काे खासी भारी पड़ रही है। जेएएच परिसर में स्थित कमलाराजा में चिल्ड्रन वार्ड के एसी बंद हाेने से मरीज काफी परेशान थे। लाेगाें ने जब शिकायत की ताे ड़ाक्टराें ने भी प्रबंधन काे पत्र लिखा। इसके बाद भी जब काेई सुधार नहीं हुआ ताे लाेगाें ने दक्षिण विधानसभा क्षेत्र के विधायक प्रवीण पाठक काे समस्या से अवगत कराया। इसके बाद विधायक खुद अपने साथ इलेक्ट्रिशियन लेकर पहुंचे व तीन एसी काे सामने खड़े हाेकर रिपेयर कराया। बाकी के चाल एसी काे भी शुक्रवार काे दुरूस्त कर दिया गया है। अब साताें ऐसी के चालू हाेने से मरीजाें काे काफी राहत मिली है। वहीं जेएएच के प्रवक्ता डा. देवेंद्र कुशवाह का कहना है सात दिन के अंदर सभी एसी व अन्य मशीनें ठीक नहीं हुई तो संबंधित कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

कई उपकरण बंदः जेएएच में विभिन्न विभागाें में ऐसी के साथ ही कई अन्य मशीनें भी बंद पड़ी हुई है। जिसके कारण कामकाज भी प्रभावित हाेता है। मेंटेनेंस का काम संभालने वाली कंपनी के द्वारा लापरवाही बरते जाने के कारण डाक्टर एवं मरीज दाेनाें काे ही परेशानी झेलना पड़ती है।