ब्रेकिंग
मुख्यमंत्री चौहान ने स्व. माधवराव सिंधिया की पुण्य-तिथि पर नमन किया ओबीसी आरक्षण विसंगति के मुद्दे पर आंदोलन सीबीआई ने पेश किया पहला आरोपपत्र, पार्थ चटर्जी समेत 15 अन्य के नाम मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कार्यक्रम के लिए पंडरिया विधानसभा के ग्राम इन्दौरी के भेंट-मुलाकात स्थल पहुंचे दस्तक अभियान के तहत रोका जाएगा संक्रमण, घर-घर जाकर आशा बहुएं करेंगी जागरूक प्लास्टिक से बने सामान का व्यापार कैसे शुरू करें | How to Start Plastic Material Making Business in Hindi नगरीय प्रशासन मंत्री ने आरंग में नागरिकों से की भेंट मुलाकात पानीपत में इंपीरियम पाम ड्राइव आवासीय प्लॉट लॉन्च, ग्रीन जोन, मार्केट कॉम्प्लेक्स समेत अन्य सुविधाएं वर्ष 2005 में चोरी गई 11 लाख कैश से भरी तिजोरी ढूंढने के लिए पुलिस ने ली जामा तलाशी CM के कार्यक्रम में भाषण कांग्रेस MLA को रोका था

अवैध रूप से प्लाटिंग करने वालों और जनक नंदिनी ट्रस्ट से संबंध जमीन हड़पने वालों पर जल्द होगी बड़ी कार्रवाई

भाटापारा । क्षेत्र में अवैध रूप से बिकी और बेची जा रही जमीनों पर विभागीय जांच जारी है। अवैध प्लाटिंग करने वालों को नोटिस भेजने के बाद आगे कार्यवाही का इंतजार हो रहा है। दूसरी ओर जनक नंदिनी ट्रस्ट से संबंध जमीनों के मामले में राजस्व विभाग द्वारा सूची तैयार की जा रही है। तहसीलदार अग्रवाल ने बताया कि शासन से मार्गदर्शन मांगा गया था, जिससे कार्यवाही में समय लगा। वास्तव में 100 एकड़ से ज्यादा जमीनों का मामला है, और इनके बहुत टुकड़े अलग-अलग खातों में दर्ज है ।प्रत्येक खातों का मिलान कर पृथककरण कर सूची तैयार की जा रही है। पूरी सूची बनने के बाद आदेशानुसार कार्यवाही की जाएगी।
उल्लेखनीय है कि ट्रस्ट की 100 एकड़ भूमि के दशकों में हुए सभी नामांतरण व पंजीयन रद्द कर शासनाधीन दर्ज करने के आदेश की चर्चाओं से, शहर में भूमि क्रय करने वाला बड़ा तबका परेशान है। 20 -30 वर्षों पूर्व जमीन खरीदने वाले भी दायरे में आने से हड़कंप की स्थिति है।
शहर में अभी भी धड़ल्ले से अवैध प्लाटिंग का काम जोरों से जारी है। नगर निवेश की नोटिस मिलने का प्लाटिंग करने वालों पर असर नहीं दिख रहा। प्लाट खरीदने वाले जरूर भ्रम व भय की स्थिति में है।पूर्व में भी सरकार की कार्यवाही कभी नोटिस से आगे नहीं बढ़ी इसलिए वर्तमान में भी जमीन के कारोबारी ज्यादा गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं।

शासन के आदेशानुसार उक्त सभी भूखंड अब शासकीय भूमि के रूप में दर्ज होने हैं।बहुत ज्यादा नंबर होने की वजह से सूचीबद्ध करने में समय लग रहा है।

तहसीलदार, भाटापारा

विभाग द्वारा सभी अवैध कॉलोनाइजर को नोटिस भेजी गई है, और विवेचना कर शीघ्र अगली कार्रवाई होगी

नगर निवेश, अधिकारी