ब्रेकिंग
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जेपी हॉस्पिटल में स्वास्थ्य मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लिया एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है

असम में फूंक फूंक कर कदम रख रही कांग्रेस, नए चेहरों पर जताया भरोसा, जानें क्‍यों चर्चित टीटाबोर सीट पर फंसा है पेंच

गुवाहाटी। असम विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने शनिवार को 40 उम्मीदवारों की पहली लिस्‍ट जारी की थी। समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक इन उम्‍मीदवारों में से आधे नए चेहरे हैं। इस लिस्‍ट में 20 नए चेहरे हैं जबकि छह मौजूदा विधायकों पर भरोसा जताया गया है। उम्‍मीदवारों में कांग्रेस विधायक दल के नता देबब्रत सैकिया भी हैं जिनको नजीरा से टिकट दिया गया है।

पीटीआइ ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि वहीं भाजपा की नजर चर्चित टीटाबोर सीट पर है। असम के तीन बार मुख्यमंत्री रहे तरुण गोगोई इस सीट से विधायक थे। पिछले साल 23 नवंबर को कोरोना संक्रमण की जटिलताओं के चलते उनका निधन हो गया था। कांग्रेस किसी भी सूरत में इस सीट पर अपना कब्जा बरकरार रखना चाहती है। यही कारण है कि यहां से अभी उम्‍मीदवार के नाम का एलान नहीं किया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक टीटाबोर विधानसभा सीट पर उम्मीदवार के नाम को अंतिम रूप देने से पहले तरुण गोगोई के परिवार से सलाह लेगी। गोगोई इस सीट से लगातार चार बार विधायक चुने गए थे। इसके अलावा तिनसुकिया, ढकुआखाना, बेहाली, ढिंग एवं बोकाखत सीटों पर भी उम्मीदवारों के नाम की घोषणा बाकी है। यही नहीं एआईयूडीएफ के खाते में गई नौबोइचा सीट पर अभी उम्मीदवार के नाम का एलान नहीं हुआ है।

कांग्रेस के एक प्रवक्ता की मानें तो इन सीटों पर उम्‍मीदवारों के नामों का जल्द एलान किया जाएगा। इनमें से कुछ सीटें सहयोगी दल को दी जाएंगी। कांग्रेस ने चार महिलाओं समेत उन 12 उम्मीदवारों मौका दिया है जो साल 2016 के विधानसभा चुनावों में मामूली अंतर से हारे थे। इन नेताओं में जोरहाट से राणा गोस्वामी, थाउरा से सुशांत बरगोहाईं, माहमारा से सूरज दिहिंगिया, बिहपुरिया से भूपेन कुमार बोरा शामिल हैं।

सूतिया से प्राणेश्वर बसुमतारी, दुलियाजान से ध्रुब गोगोई और टिगखांग से एतुवा मुंडा भी साल 2016 के विधानसभा चुनावों में मामूली अंतर से जीत से वंचित रह गए थे। इनको इस बार भी मौका दिया गया है। माजुली सीट से रानोज कुमार पेगु पर दोबारा भरोसा जताया गया है जो साल 2016 के चुनावों में मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से 18 हजार मतों से हार गए थे। पेगु साल 2001 से लगातार तीन बार यहां से निर्वाचित रहे हैं।