ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

MP में कोरोना के बाद डेंगू का कहर! इस जिले में एक साथ सामने आए 144 मरीज

मंदसौर: मंदसौर में कोरोना के बाद अब डेंगू का प्रकोप देखने को मिल रहा है। जिले में डेंगू के 144 मरीज सामने आ चुके है और यह आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। अब तक सबसे अधिक केस मंदसौर के सीतामऊ ब्लॉक से सामने है। जिसके बाद वहां स्वास्थ्य टीमें बनाकर सर्वे करवाया जा रहा है। साथ ही इलाके में फॉगिंग मशीन से धुआं भी करवाया जा रहा है।

मंदसौर में कोरोना के मामलों में कमी आने से राहत मिली ही थी कि, अब डेंगू ने क्षेत्र में अपने पैर पसारने शुरू कर दिए है। बीते साल के मुकाबले इस साल डेंगू के दोगुने से अधिक मामले मंदसौर जिले सामने आ चुके है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार जिले में अब तक डेंगू के 144 मरीज सामने आ चुके है। जिसमें से सबसे अधिक केस सीतामऊ ब्लॉक से सामने आये है। यहां से अब तक 72 मामले सामने आ चुके है। जबकि मंदसौर शहर की अलग अलग मोहल्ले और कॉलोनियों से 56 मामले सामने आ चुके है। इसके अलावा जिले के धुंधड़का ब्लॉक में भी डेंगू के 9 केस मिले है।

सामने आया यह आंकड़ा सरकारी है लेकिन हकीकत इससे विपरीत है। डेंगू के कई मरीज निजी अस्पतालों में भी इलाजरत है। जिनकी सरकारी आंकड़ों में गिनती नहीं है। ऐसे में माना जा सकता है कि जिले में डेंगू को कंट्रोल करने में मलेरिया विभाग विफल रहा है। लेकिन जिला कलेक्टर मनोज पुष्प स्थिति को नियंत्रण में बता रहे है। उनका कहना है कि लार्वा को नियंत्रण करने में शहरी और ग्रामीण टीमें लगातार कार्य कर रही है। जिन इलाकों से ज्यादा मरीज आ रहे है। वहां मेडीकल कैंप लगाया गया है। साथ ही जिला स्तर पर हर वर्ष की तरह कंट्रोल रूम बनाया गया है।

मामले में आंकड़ो को लेकर जिला कलेक्टर ने सीएमएचओ से जानकारी लेने की बात कही है। किंतु जब हमने सीएमएचओ से संपर्क करना चाहा तो उन्होंने फ़ोन रिसीव नहीं किया। इसके बाद जब हमने मलेरिया अधिकारी से बाईट लेना चाही तो उन्होंने फील्ड में होने का हवाला देते हुए आंकड़ो से संबंधित जानकारी फ़ोन पर उपलब्ध करवाई है।