ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

रिमोट का बटन दबाकर सीएम ने छत्‍तीसगढ़ के 99वें उप पंजीयक कार्यालय का किया शुभारंभ

रायपुर। छत्‍तीसगढ़ के मुखिया यानि मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को अपने निवास कार्यालय से रिमोट का बटन दबाकर नवा रायपुर के सेक्‍टर 29 में नए उप पंजीयक कार्यालय का शुभारंभ किया।इस दौरान वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीएम भूपेश बघेल ने कहा है कि छत्‍तीसगढ़ सरकार जनता से जुड़ी सेवाओं की प्रक्रिया को सरल और बेहतर बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। सीएम ने आगे कहा कि नवा रायपुर में पंजीयन कार्यालय की शुरुआत होने से यहां के छह गांव, आरंग के 20 गांव के साथ ही अभनपुर ब्‍लाक के 15 गांव यानि कुल 41 गांव के लोगों को पंजीयन के काम में राहत मिलेगी। पहले इन 41 गांव के लोगों को 40 किलोमीटर दूर रायपुर आना पड़ता था।

सीएम बघेल ने कार्यक्रम के दौरान पंजीयन विभाग के बैकलाग दस्तावेजों की स्कैनिंग के साथ ही डिजिटाइजेशन कार्य और डिजिटल ई-स्टाम्प जैसी सुविधा की शुरुआत की। सीएम बघेल ने बताया कि छत्तीसगढ़ में पहले 98 पंजीयन कार्यालय थे, नवा रायपुर के इस कार्यालय के बाद यहां अब 99 पंजीयन कार्यालय हो जाएंगे। छत्तीसगढ़ के विकास में इन पंजीयन कार्यालयों की अहम भूमिका है। सीएम ने नवा रायपुर स्थिति उप पंजीयक कार्यालय में पंजीयन कराने पहुंची ग्राम परसदा की रेखा कोसले को पंजीयन के दस्तावेज सौंपेे गए।
वर्ष 2020-21 में दस्तावेजों के पंजीयन से छत्तीसगढ़ को 1589 करोड़ रुपये का राजस्व मिला था। इसमें से 545 करोड़ रुपये का राजस्व रायपुर से मिला था। यह पंजीयन विभाग से मिले कुल राजस्व का 34 प्रतिशत है। उन्‍होंने आगे कहा कि जनसुविधा को ध्यान में रखते हुए वर्ष 2018 के बाद से अब तक 5 नये जिलों और 72 नई तहसीलों की स्थापना का निर्णय लिया गया है।
इस अवसर पर राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल कोरबा से जुड़े और इंदरशाह मंडावी, सुब्रत साहू, निरंजन दास, इफ्फत आरा, सुशील खलको मुख्यमंत्री निवास में उपस्थित रहे। इनके अलावा नेशनल ई-गवर्नेंस सर्विस लिमिटेड और बैंक आफ बड़ौदा के प्रतिनिधि भी कार्यक्रम से जुड़े रहे।