ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

20 पलंग क्षमता वाले शिशु वार्ड में 4 गुना से भी अधिक बच्चे भर्ती, महंगी पड़ सकती है यह लापरवाही

बड़वानी: तीसरी लहर से पूर्व वायरल फीवर बच्चों में तेजी से फैल रहा है ऐसे में बड़वानी में लापरवाही का एक ऐसी तस्वीर सामने आई है जो किसी बड़े खतरे की घंटी साबित हो सकती है। जहां वायरल से बीमार 20 पलंग क्षमता के शिशु वार्ड में 86 बच्चे उपचार के लिए भर्ती हैं। आलम यह है कि जिसे जहां जगह मिल रही, वहां गद्दा बिछकर लेट रहा है और इलाज करवा रहा है। मामला सामने आने के बाद सीएमएचओ ने मीडिया से दूरी बनाई हुई है। वहीं लोकसभा सांसद का कहना है कि सभी के लिए बैड की व्यवस्था जल्द ही करवा दी जाएगी।

कोरोना की दूसरी लहर के बाद तीसरी लहर की आशंका व्यक्त की जा रही है इसमें मुख्य रुप से बच्चों को सुरक्षित रखने के प्रयास किए जा रहे है। वहीं इसके पूर्व ही छोटे बच्चों में तेजी से वायरल फैल रहा है। इससे तीसरी लहर के पूर्व ही जिला अस्पताल में सुविधा-संसाधनों का दम फूलने लगा है। मीडिया ने जब जिला अस्पताल के विभिन्न वार्डो की पड़ताल की तो इसमें यह बात सामने आई और निरीक्षण के दौरान पाया गया कि मात्र 20 पलंग क्षमता के शिशु वार्ड में चार गुना अधिक 86 बच्चे उपचारत है। इससे पलंग के साथ जगह की कमी होने लगी है जिसे जहां जगह मिल रही हैं, वो वहां गद्दा बिछाकर उपचार करवाने को मजबूर है जबकि ईएनटी, मेल सर्जिकल ऐसे हैं, जहां क्षमता के विरुद्ध मात्र एक-एक मरीज भर्ती है।

वही इस मामले में जब मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से मीडिया ने चर्चा करना चाहिए तो वह कैमरे के सामने आने से मना कर गई वही खरगोन बड़वानी लोकसभा सांसद गजेंद्र सिंह पटेल ने कहा कि अभी वायरल तेजी से बच्चों में बढ़ रहा है। जिला अस्पताल में 20 पलंग की क्षमता वाले शिशु वार्ड में क्षमता से अधिक बच्चें है। नई व्यवस्था की जा रही है। हालांकि क्षमता से अधिक बच्चें होने पर भी उनके उपचार में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं है।