ब्रेकिंग
विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद

चीन पर लगाम लगाने समेत कई अहम मुद्दों को लेकर क्वाड के चारों देशों के प्रमुखों की 12 मार्च को होगी पहली बैठक

नई दिल्ली। इस हफ्ते का शुक्रवार यानी 12 मार्च, 2021 का दिन वैश्विक कूटनीति के इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन के तौर पर याद रखा जाएगा। हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की बढ़ती चुनौती पर लगाम लगाने के उद्देश्य से चार देशों जापान, आस्ट्रेलिया, भारत और अमेरिका का गठबंधन (क्वाड) के प्रमुखों की पहली बैठक शुक्रवार को होने जा रही है।

वर्चुअल बैठक में हिंद-प्रशांत क्षेत्र के अलावा सप्लाई चेन समेत अहम मुद्दों पर होगी चर्चा

बैठक वर्चुअल होगी, लेकिन इसके बारे में जो जानकारी क्वाड के सदस्य देशों ने दी है, वह इसके महत्व को बताता है। इसमें सिर्फ हिंद-प्रशांत क्षेत्र में रणनीतिक व सैन्य साझा सहयोग के एजेंडे पर ही बात नहीं होगी, बल्कि कोरोना जैसी महामारी से निपटने में उक्त चारों देशों की भूमिका और नए वैश्विक माहौल में सप्लाई चेन की नई व्यवस्था भी बैठक के प्रमुख एजेंडे में शामिल है।

पीएम मोदी की अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन के साथ होगी पहली बैठक

पीएम नरेंद्र मोदी की यह अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ किसी संगठन के दौरान होने वाली बैठक होगी। मोदी की जापान के पीएम योशिहिदे सुगा और आस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरीसन के साथ वर्चुअल बैठक हो चुकी है। मोदी का बाइडन से अभी तक एक बार टेलीफोन पर विमर्श हुआ है। जानकारों का मानना है कि क्वाड देशों के गठबंधन को ठोस रूप देने और वैश्विक तौर पर उसकी अहमियत को स्थापित करने में इस बैठक का अहम योगदान होगा। यह इस बात का भी संकेत है कि जिस तरह से पूर्व में शीत युद्ध काल में नाटो संगठन के सदस्य देशों की निश्चित अंतराल पर बैठक होती थी, वैसे ही अब क्वाड देशों के प्रमुखों की बैठक भी होती रहेगी।

क्वाड के चारों देशों के प्रमुखों के बीच क्षेत्रीय व वैश्विक मुद्दों पर करेंगे वार्ता

विदेश मंत्रालय की तरफ से बताया गया है कि चारों नेताओं के बीच क्षेत्रीय व वैश्विक मुद्दों पर साझा हितों से जुड़े मसलों पर बात होगी। इनके बीच आजाद व सभी देशों के लिए समान अवसर वाले हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने को लेकर विभिन्न क्षेत्रों का चयन किया जाएगा। समुद्री सुरक्षा और जलवायु परिवर्तन भी चर्चा का अहम मुद्दा होगा। वैश्विक सप्लाई चेन को लेकर उपजी स्थिति पर भी विमर्श किया जाएगा। माना जा रहा है कि कोरोना काल में चीन की सप्लाई चेन पर बनी निर्भरता की वजह से जो समस्याएं पैदा हुई हैं उस तरह की समस्या आगे ना हो, इसको लेकर विमर्श का दौर शुरू होगा। भारत खास तौर पर इस मुद्दे को आगे बढ़ाना चाहेगा क्योंकि दुनिया में सिर्फ भारत ही चीन के सप्लाई चेन के विकल्प के तौर पर स्थापित हो सकता है।

संचार क्षेत्र में 5जी तकनीक को लेकर भी चारों देश के नेताओं के बीच विमर्श होगा

संकेत है कि संचार क्षेत्र में 5जी तकनीक को लेकर भी उक्त नेताओं के बीच विमर्श होगा। सनद रहे कि चीन की 5जी तकनीक को लेकर पहले ही अमेरिका और भारत अपनी आशंका जता चुके हैं। अमेरिका ने चीन की तकनीकी कंपनियों को प्रतिबंधित कर रखा है। यह पहला मौका होगा जब क्वाड के देशों के बीच तकनीकी सहयोग पर इस स्तर का विमर्श होगा। अभी तक इन देशों के बीच हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सैन्य सहयोग या युद्धाभ्यास जैसे मुद्दों पर ही बैठकें हो रही थीं। यह भी उल्लेखनीय है कि मंगलवार को ही पीएम नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम सुगा के बीच टेलीफोन पर बातचीत हुई है, जिसमें क्वाड से जुड़े मुद्दों पर खास तौर पर चर्चा हुई है। क्वाड देशों के प्रमुखों की बैठक बुलाने में आस्ट्रेलिया के पीएम मॉरीसन की भूमिका भी अहम रही है, क्योंकि उन्होंने ही इस बारे में मोदी और बाइडन से पहले बात की।