ब्रेकिंग
संजय गांधी टाइगर रिजर्व में बढ़ रही बाघों की संख्या, सैलानियों में भी हो रहा इजाफा सफीदों रोड पर 4 लोगों ने किया हमला, कोर्ट के आदेश पर FIR 50 लोगों को ट्रॉली में बेठाकर सड़क पर दौड़ रहा ट्रैक्टर, मूकदर्शक बनी पुलिस नॉर्थ कोरिया ने जापान के ऊपर से दागी बैलिस्टिक मिसाइल विद्याधाम परिसर गूंज रहा मां पराम्बा के जयघोष एवं स्वाहाकार की मंगल ध्वनि से वीडियो वायरल : एयरपोर्ट पर करीना कपूर के साथ बदसलूकी.. इस देवी मंदिर में है 51 फीट ऊंचे दीप स्तंभ, जान जोखिम में डालकर इन्हें कैसे जलाते हैं मां वैष्णो के दरबार में पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह हर रूप में स्त्री का सम्मान करने से प्रसन्न होती हैं मां जगदंबा Navratri Durga Ashtami: दुर्गाष्टमी आज, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और कन्या पूजन महत्व

ममता बनर्जी ने बताया बंगाल में कब खुलेंगे स्कूल, बोलीं- कोरोना की स्थिति पर हमारी नजर

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि अगर राज्य में कोरोना की स्थिति और खराब नहीं होती है तो पूजा की छुट्टियों के बाद स्कूल फिर से खुल जाएंगे। उन्होंने यह भी कहा कि नियमित कक्षाओं के लिए परिसरों को फिर से खोले जाने से पहले शिक्षण संस्थानों में स्वच्छता अभियान चलाया जाएगा। ममता ने मीडिया से कहा कि बंगाल में स्कूल पूजा (छुट्टियों) के बाद फिर से खुलेंगे, बशर्ते स्थिति अनुकूल हो। अगर तीसरी लहर खतरनाक नहीं होती है, तो हम स्कूल की इमारतों को संक्रमणमुक्त करेंगे और फिर उन्हें खोला जाएगा। हम स्कूलों को फिर से शुरू करने के लिए उत्सुक हैं। हम चाहते हैं छात्र स्कूल जाएं।

मुख्यमंत्री ने जोर दिया कि राज्य में अभी कोरोना की स्थिति नियंत्रण में है। उन्होंने स्पष्ट किया कि यदि मामलों की संख्या बढ़ती है, जैसा महाराष्ट्र और केरल में हुआ, “मुझे नहीं मालूम कि तब क्या निर्णय लिए जाएंगे।” इस महीने की शुरुआत में, नोबेल पुरस्कार से सम्मानित अभिजीत विनायक बनर्जी की अध्यक्षता में वैश्विक सलाहकार बोर्ड (GAB) की बैठक के बाद ममता ने संकेत दिया था कि राज्य सरकार पूजा की छुट्टियों के बाद स्कूल और कॉलेज वैकल्पिक दिनों में खोलने के विकल्प पर विचार कर रही है।

संयोगवश नोबेल पुरस्कार से ही सम्मानित अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने रविवार को एक वेबिनार में कहा कि कोरोना के बीच स्कूल परिसरों को फिर से खोलने पर हो रही चर्चा का तत्काल कोई जवाब नहीं है। सेन ने कहा कि स्कूलों के बंद रहने से बच्चों को बहुत नुकसान हो रहा है, लेकिन अगर स्कूल फिर से खुलते हैं तो उनके स्वास्थ्य की चिंताओं को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।