ब्रेकिंग
शिवसेना पंजाब चेयरमैन सहित दोनों पक्ष के 11 लोगों पर मामला दर्ज,पुलिस की रेड जारी Kyle Benson: An Union Coach Emphasizing Intentional, Intimate & Secure Bonds Between Committed Partners जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे 63 कैदी रिहा भारतीय वायुसेना में शामिल हुए हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर 'प्रचंड' छत्तीसगढ़: कुम्हारी हत्याकांड पर सियासी बवाल नशे का इंजेक्शन लगाकर गिरते-गिरते अपने मोटरसाइकिल तक पहुंचा युवक, सीधा खड़ा भी नहीं हो पाया पोहा बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें या पोहा मिल कैसे लगाये |Poha Making Business In Hindi कुम्हारी हत्याकांड पर सियासी बवाल युवती को पता चलने पर धमकाया, हिंदूवादी संगठन ने युवक की पिटाई की दुर्गोत्सवऔर दशहरा उत्सव मनाने ट्रैफिक पुलिस ने बनाया प्लान, शाम 5 बजे से रात दो बजे तक रूट रहेगा डायवर्ट

डीए की मांग को लेकर राहुल गांधी से मिलेंगे सरकारी कर्मचारी

रायपुर। छतीसगढ़ शासकीय अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन 28 फीसद महंगाई भत्ते की मांग को लेकर कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से मिलने की तैयारी में है। राहुल के आगामी दौरे के बीच सभी जिलों के कर्मचारी मांगों को लेकर सक्रिय हो गए हैं। अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन के प्रांतीय प्रवक्ता संजय तिवारी ने बताया कि राज्य के कर्मचारियों और पेंशनरों को केंद्रीय कर्मचारियों के समान महंगाई भत्ता सहित ग्यारह सूत्री मांगों को लेकर फेडरेशन के प्रांतीय संयोजक अनिल शुक्ला व महासचिव ओपी शर्मा के नेतृत्व में लगातार संघर्ष जारी है।

इसके तहत 10 मार्च 2021 को चालू बजट सत्र के दौरान मुख्यमंत्री निवास का घेराव व छह अगस्त को 28 फीसद डीए की मांग लेकर रायपुर में सांकेतिक विरोध में किया गया था। मगर, शासन की हठधर्मिता व कर्मचारी विरोधी रवैए के कारण अब तक डीए की घोषणा नहीं हुई है। वहीं, बिहार, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, झारखंड, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब जैसे राज्य एक जुलाई से 28 फीसद डीए देने की घोषणा कर चुके हैं।

अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन के प्रांतीय संयोजक अनिल शुक्ला ने 16 जुलाई को फेडरेशन की विशेष बैठक बुलाकर फेडरेशन के दूसरे गुट के साथ 28 फीसद डीए की एक सूत्रीय मांग को लेकर संयुक्त रूप से आंदोलन का प्रस्ताव दिया था।

दूसरे गुट के संयोजक ने कर्मचारी हितों एवं प्रदेश के आम कर्मचारियों की भावनाओं को दरकिनार करते हुए अपनी एक साल पुरानी 14 सूत्रीय मांगों को लेकर तीन सितंबर को एक दिन के सामूहिक अवकाश लेकर प्रदर्शन की घोषणा कर चुके हैं। इसका भी समर्थन किया जाएगा। शासकीय अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन से संबद्ध 27 संगठन के सदस्य एक दिवसीय आंदोलन से पृथक रहते हुए कर्मचारी हित में अपना नैतिक समर्थन देने का निर्णय लिया है।