ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी

BJP ने असम के तीन और पश्चिम बंगाल के दो उम्मीदवारों के नामों का किया ऐलान

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय चुनाव समिति ने बुधवार को असम विधानसभा चुनाव व पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव लिए उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर दिया। विस्तृत विचार-विमर्श के बाद इन उम्मीदवारों के नाम को मंजूरी दी गई है। असम के लिए पार्टी ने तीन उम्मीदवारों व पश्चिम बंगाल के लिए दो उम्मीदवारोंं के नामों की घोषणा की है।

इस क्रम में असम के हेलाकांडी से मिलन दास, सिपाझार से परमानंद राजबोंगशी और होजाई से रामकृष्ण घोष को उम्मीदवार बनाया है। वहीं पश्चिम बंगाल के खड्गपुर सदर से हिरण्मय चट्टोपाध्याय और बडजोड़ा से सुप्रीति चटर्जी को पार्टी ने अपना उम्मीदवार बनाया है।

असम में 27 मार्च और एक अप्रैल को होने वाले चुनावों में 86 सीटों पर मतदान कराया जाएगा। हाल में ही भाजपा के एक शीर्ष पदाधिकारी ने बताया था कि असम में शुरुआती दो चरणों में होने वाले चुनाव के लिए उम्मीदवारों का नाम तय कर लिया गया है।  बता दें कि वर्ष 2016 के चुनाव में भाजपा ने 84 सीटों में लड़ी थी और उसमें 60 सीटें जीती थी, जबकि 2011 के चुनाव में उसके पास केवल 5 सीटें थीं। असम गण परिषद ने 24 में से 14 सीटें जीती थी, जबकि यूपीपीएल चार सीटों में से एक भी नहीं जीत पाई थी। बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (BPF) ने तब 16 में से 12 सीटें जीती थीं। हालांकि इस बार वह कांग्रेस के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है।