Jain
ब्रेकिंग
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh p... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

अब बिलासपुर स्टेशन से बिना सफाई रवाना नहीं होंगी ट्रेनें

बिलासपुर। जोनल स्टेशन से गुजरने वाली ट्रेनें अब बिना सफाई के रवाना होंगी। कोरोना की वजह से बंद इस व्यवस्था को फिर से शुरू कर दी गई है। ‘ नईदुनिया” में खबर प्रकाशित होने के बाद रेल प्रशासन ने इसके लिए रेलवे ने टेंडर किया है। इसके तहत ट्रेनों की सफाई दो शिफ्ट कराई जा रही है। दोनों पाली में 40- 40 कर्मचारी काम कर रहे हैं।

कोरोना वायरस की दस्तक के साथ रेलवे ने सभी ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया। इसके कारण अलग-अलग कार्य करने वाले ठेका कर्मियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। इसमें वह कर्मचारी भी थे, जो जोनल स्टेशन पहंुचने पर ट्रेन की सफाई करते हैं। करीब चार महीने बाद यात्रियों की सुविधा को देखते हुए कुछ गिने- चूने ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया। इसके बाद धीरे- धीरे ट्रेनें की संख्या बढ़ती चलती गई।

पर रेलवे की ओर से ट्रेन में पानी भरने और सफाई करने वाले कर्मचारियों पर काम पर रखने के लिए दोबारा टेंडर नहीं किया। इसके चलते स्थिति यह थी कि ट्रेन में पानी भरने की जवाबदारी रेलवे के कर्मचारियों को सौंपी गई। अभी भी यही कर्मचारी पानी भर रहे हैं, लेकिन सफाई के लिए रेलवे की ओर से कोई भी वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की गई थी। जिसके चलते यात्रियों को परेशानी हो रही थी।

वह हेल्पलाइन नंबर, टीटीई और आरपीएफ सभी को ट्रेन में सफाई कराने की व्यवस्था कराने के लिए निवेदन करते। इसके बाद भी स्टेशन पहंुचने के बाद उनकी समस्या दूर नहीं होती थी। दरअसल रेलवे स्टेशन में सफाई कर्मचारी ही नहीं थे। यात्रियों की परेशानी व लगातार आ रही शिकायतों को देखते हुए रेलवे ने टेंडर किया है। हालांकि यह जवाबदारी उसी ही कंपनी को मिली है, जिसका पहले ठेका था। सफाई में दो शिफ्ट में रही है। ट्रेन के पहंुचते ही कर्मचारी ट्रेन में चढ़कर शौचालय के आसपास और आवश्यकता पड़ने कोच को भी साफ कर रहे हैं।

पानी की समस्या बरकरार

रेलवे ने ट्रेन में पानी भरने का काम निजी कर्मचारियों से कराती थी। पर इसके लिए अभी तक टेंडर नहीं हुआ है। अभी भी रेलकर्मी ही यह काम कर रहे हैं। संख्या कम होने के कारण कुछ कोच में पानी ही नहीं भराता।