ब्रेकिंग
दुर्गोत्सवऔर दशहरा उत्सव मनाने ट्रैफिक पुलिस ने बनाया प्लान, शाम 5 बजे से रात दो बजे तक रूट रहेगा डायवर्ट महिलाओं ने की 18 किलोमीटर पैदल यात्रा, मां जालपा को ओढाई 72 मीटर लंबी चुनरी MP की सबसे लंबी मोहनिया सुरंग बनकर तैयार, जाने क्या है, खासियत होटल में सेंटरिंग टूटने से हादसा, पिता-पुत्र की मौत, एक घायल Old Coin sell आप भी पुराने स‍िक्‍के और नोट बेच कर रातों रात बन सकते हैं करोड पति आपसी विवाद में 30 मिनट तक चले फावड़े, खूनी संघर्ष में दोनों की मौत 1.64 लाख चोरी; गड़बड़ी पकड़े जाने से पहले ही रफू चक्कर हो गया बड़ी संख्या में भक्तों ने किया मनमोहक गरबा कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग व्यवसाय कैसे शुरू करें | How to Start Computer and Laptop Repairing Business in Hindi बालोद की MLA संगीता सिन्हा ने जमकर खेला गरबा, खुद के बीच जनप्रतिनिधि को पाकर खुश हुई जनता

भोपाल के दो सरकारी स्कूल, जो शिक्षकों के प्रयास से बने हाइटेक, निजी स्कूलों को दे रहे टक्कर

भोपाल। राजधानी के दो ऐसे स्कूल जिन्हें देखने के बाद यकीन करना मुश्किल होगा कि यह सरकारी हैं। दोनों स्कूल निजी स्कूलों को भी कड़ी टक्कर दे रहे हैं। इन स्कूलों के प्रधानाध्यापक और शिक्षकों के सहयोग से इन्हें सर्व सुविधायुक्त बनाया गया है। कोविड काल में स्कूल में सभी बच्चों के लिए ऑनलाइन कक्षा की व्यवस्था की गई है। पीएनटी चौराहा पर स्थित दीपशिखा मिडिल स्कूल का 2019 में अस्तित्व लगभग खत्म हो गया था, लेकिन इसे फिर से शिक्षकों व जनसहयोग की मदद से सर्व सुविधायुक्त बना दिया गया है। ऐसा ही सूरजनगर का सरदार वल्लभ भाई पटेल शासकीय प्राथमिक स्कूल झोपड़ी से पक्के भवन में तब्दील हो गया। दोनों स्कूल में प्रवेश के लिए इस साल बच्चों की संख्या बढ़ी है। निजी स्कूलों के बच्चे भी अब इन स्कूलों में प्रवेश लेने आ रहे हैं।

स्कूल का अस्तित्व मिटा, लेकिन फिर खड़ा हो गया

70 साल पुराना दीपशिखा मिडिल स्कूल 2019 में स्मार्ट सिटी की भेंट चढ़ गया था। स्कूल को स्मार्ट सिटी ने पीएनटी चौराहा पर जगह दी। फिर से स्कूल को अपनी पहचान बनानी थी। अब यह स्कूल ऑनलाइन कक्षा चलाने वाला राजधानी का पहला सरकारी स्कूल बन गया है। दीपशिखा मिडिल स्कूल से 11 अन्य सकूलों के बच्चों को जोड़ने की तैयारी चल रही है। इस स्कूल पूरी कक्षाएं ऑनलाइन चलाई जा रही हैं। दरअसल, नए शहर में सबसे पुराने स्कूलों में शामिल दीपशिखा मिडिल स्कूल जवाहर चौक पर था। दो साल पहले इसे स्मार्ट सिटी बनाने के लिए तोड़ दिया गया। इस स्कूल को दूसरे स्कूल में मर्ज करने की तैयारी थी, लेकिन प्रधानाध्यापक व शिक्षकों ने स्कूल को 228 क्वार्टर के पास खंडहर पड़ी गैस राहत की बिल्डिंग में शिफ्ट करने के लिए अधिकारियों से बात की। इसके बाद यहां पर फिर से स्कूल बनकर तैयार हो गया। यहां पर प्ले ग्रुप का केजी-1 व केजी-2 के साथ-साथ पहली से आठवीं तक कक्षाएं संचालित हो रही हैं। इसमें पांचवीं से आठवीं तक स्मार्ट क्लास है। वहीं निजी स्कूलों की तरह हर कक्षा में फर्नीचर, स्मार्ट बोर्ड, शौचालय, खेलने के लिए ग्राउंड, लाइब्रेरी सबकुछ तैयार हो गया। जनसहयोग से स्कूल में स्मार्ट क्लास के साथ-साथ हर कक्षा में टेबल-कुर्सी की व्यवस्था की गई। शिक्षक संतोष यादव, लक्ष्मी पंथी व धीरज साहू कोविड काल में बच्चों को लाइव पढ़ाते हैं।

सरकारी स्कूल में सीसीटीवी और हाइटेक सुविधाएं

सूरजनगर का सरदार वल्लभ भाई पटेल शासकीय प्राथमिक स्कूल की शुस्र्आत 1996 में एक झोपड़ी से हुई थी। इस स्कूल का कायाकल्प शिक्षकों व प्रधानाध्यापक की मदद से किया गया। आज इस स्कूल के हर कमरे में सीसीटीवी लगे हैं, साथ ही स्मार्ट टीवी है। स्कूल की दीवारों पर आदिवासी संस्कृति की कलाएं उकेरी गई हैं। अब यहां गार्डन और दो कमरे जनसहयोग से तैयार किए जा रहे हैं। इस स्कूल में केजी-1 व केजी-2 की शुरुआत भी की गई है। हर साल इस स्कूल के शिक्षक और प्रधानाध्यापक मिलकर प्ले ग्रुप में फर्नीचर की व्यवस्था कर रहे हैं।

स्कूल का अस्तित्व पूरी तरह समाप्त हो गया था। उसे नए सिरे से खड़ा करना मुश्किल था, लेकिन शिक्षकों और जनसहयोग से स्कूल को सर्वसुविधा युक्त बनाया गया। – नागेश पांडेय, प्रधानाध्यपाक दीपशिखा मिडिल स्कूल

शिक्षकों व जनसहयोग से इस स्कूल को झोपड़ी से पक्के भवन में तब्दील किया। स्कूल में सीसीटीवी के साथ अन्य सुविधाएं भी की गईं। – सुभाष सक्सेना, प्रधानाध्यापक सरदार वल्लभ भाई पटेल शासकीय प्राथमिक स्कूल

दीपशिखा स्कूल राजधानी का पहला स्कूल है जिसके साथ 11 अन्य स्कूलों को जोड़ने की तैयारी चल रही है। इससे हजारों बच्चे ऑनलाइन कक्षा के माध्यम से पढ़ाई कर सकेंगे। – नितिन सक्सेना, जिला शिक्षा अधिकारी