ब्रेकिंग
Essay Help From Licensed Authors Come affrontare Nervosismo estremo मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ महिला श्रमिक की मौत पर की खबर के बाद जागे परिवहन विभाग और ट्रैफिक पुलिस, नामली थाना क्षेत्र में की कार्रवाई AIIMS : ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर बैन अब तक 7 के शव बरामद, आईएएफ ने 2 चीता हेलीकॉप्टर किए तैनात, 8 लोगों का सफल रेस्क्यू क्या Pavitra Punia- Ejaz Khan ने  कर ली सगाई? दशहरे के दिन ही खुलता है रावण के इस मंदिर का द्वार खुद स्टार्ट किया पम्पिंग सेट, कहा- पशुओं में दूध की होती है वृद्धि हटाए गए कर्मियों को नौकरी देने की मांग, 19-20 को करेंगे भूख हड़ताल

सिद्धार्थ शुक्ला की मौत के बाद से सदमे में हैं शहनाज गिल, राहुल महाजन बोले- पता नहीं खुद को कैसे संभालेगी

नई दिल्ली। सिद्धार्थ शुक्ला की अचानक हुए निधन से उनकी खास दोस्त शहनाज गिल को स्तब्ध और हतप्रभ कर दिया है। दिवंगत अभिनेता के घर उनसे मिलने वाले सेलेब्स ने खुलासा किया कि वह पूरी तरह से बिखर गई हैं और स्तब्ध हैं। कई लोगों ने उसकी हालत पर चिंता जताते हुए कहा कि वह कुछ भी व्यक्त करने की हालत में नहीं है। हाल ही में दिए इंटरव्यू में राहुल महाजन ने शहनाज की स्थिति के बारे में बताया और कहा कि उन्हें इस तरह देखना दुखद है।

राहुल ने कहा, ‘ओशेवारा श्मशान घाट पर जब शहनाज गिल आई तो वो इतनी जोर से चीखी ‘मम्मी जी, मेरा बच्चा, मम्मी जी, मेरा बच्चा’। शहनाज बार-बार सिद्धार्थ के शव के पैर रगड़ रही थीं, बिना ये सोचे कि वो अब इस दुनिया में नहीं हैं। वह पूरी तरह सदमे में है। उसकी हालत और मानसिक स्थिति को देखकर मैं अंतिम संस्कार के समय कांप रहा था।’

आगे राहुल महाजन ने एबीपी न्यूज से कहा, ‘शहनाज पूरी तरह से पीली हो गई थी जैसे कि कोई तूफान आया हो और सब कुछ धो डाला हो। मुझे याद है कि जब मैंने अपनी संवेदना व्यक्त करने के लिए उनके कंधों पर हाथ रखा था और जिस तरह से उन्होंने मुझे देखा था, मैं पूरी तरह से स्तब्ध रह गया था। उसकी हालत देखकर मैं डर गया। वह पूरी तरह से सुन्न थी’

राहुल ने सिद्धार्थ और शहनाज के रिश्ते के बारे में भी बात की और कहा कि उन्होंने बहुत मजबूत रिश्ता शेयर किया था, ‘उनका रिश्ता बहुत गहरा था। पति पत्नी का भी इतना गहरा नहीं होता है जितना उनका था।’

राहुल ने कहा कि सिद्धार्थ की मां ने उन्हें बताया कि, ‘वह रात लगभग 10:30-11 बजे बाहर खाना खाकर वापस आए। अमूमन वह घर पर ही खाना खाता है। फिर वो सोने चला गया। और 3:30 बजे उठा और कहने लगा कि मुझे बैचेनी हो रही है। उसने एक गिलास पानी मांगा। लेकिन सुबह के बाद नहीं उठा।’

अस्पताल के एक अधिकारी के मुताबिक, गुरुवार सुबह मुंबई के कूपर अस्पताल लाए जाने के दौरान सिद्धार्थ शुक्ला की मौत हो गई थी।