ब्रेकिंग
Essay Help From Licensed Authors Come affrontare Nervosismo estremo मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ महिला श्रमिक की मौत पर की खबर के बाद जागे परिवहन विभाग और ट्रैफिक पुलिस, नामली थाना क्षेत्र में की कार्रवाई AIIMS : ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर बैन अब तक 7 के शव बरामद, आईएएफ ने 2 चीता हेलीकॉप्टर किए तैनात, 8 लोगों का सफल रेस्क्यू क्या Pavitra Punia- Ejaz Khan ने  कर ली सगाई? दशहरे के दिन ही खुलता है रावण के इस मंदिर का द्वार खुद स्टार्ट किया पम्पिंग सेट, कहा- पशुओं में दूध की होती है वृद्धि हटाए गए कर्मियों को नौकरी देने की मांग, 19-20 को करेंगे भूख हड़ताल

ऑनलाइन भुगतान का झांसा देकर हबीबगंज इलाके में भी सराफा कारोबारी से हुई थी ठगी

भोपाल। साइबर क्राइम पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए एक बदमाश पर शहर में पांचवीं एफआइआर दर्ज की गई है। उसे पुलिस ने आनलाइन ठगी के मामले में एक माह पहले पकड़ा था, तब से लगातार उसके कारनामे सामने आ रहे हैं। हाल ही में हबीबगंज थाना में एक सराफा कारोबारी की शिकायत पर आनलाइन भुगतान का झांसा देकर ठगी करने का मामला दर्ज किया गया है।
हबीबगंज थाने के एसआइ सुदील देशमुख के मुताबिक सुबोध साहू ई-7 अरेरा कालोनी में रहते हैं। 10 नंबर मार्केट में उनकी स्वर्ण नगरी ज्वेलर्स नाम से सराफा दुकान है। बीती 29 जून को गिरीश नामक एक ग्राहक उनकी दुकान पर पहुंचा था। उसने दुकान से चांदी की कटोरी, चम्मच, गिलास, सोने की एक जोड़ी बाली और एक बच्चे की सोने की अंगूठी खरीदी। इस सामान का उसने फोन-पे के जरिये 10 हजार 700 रुपये का आनलाइन भुगतान किया, जिसका मैसेज भी सुबोध के मोबाइल पर मिला था। ग्राहक के जाने के बाद पता चला कि उन्हें मैसेज तो आया है, लेकिन बैंक खाते में रुपये नहीं आए हैं। घटना के बाद सुबोध कई दिन तक परेशान होते रहे। कुछ दिन पहले उन्हें पता चला कि साइबर क्राइम ब्रांच ने इस प्रकार की ठगी करने वाले एक आरोपित सुरेश कुमार उर्फ मोहित रंजन उर्फ सोनू को गिरफ्तार किया है। उन्होंने जब उसके फुटेज देखे तो पता चला कि ये वही व्यक्ति है, जिसने उनके साथ ठगी की थी। उसके बाद उन्होंने मामले की शिकायत हबीबगंज पुलिस से की, जिस पर पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है। मालूम हो कि आरोपित के खिलाफ पुलिस इससे पहले बैरागढ़ में दो, कोलार में एक, गोविंदपुरा थाने में एक एफआइआर दर्ज कर चुकी है।