ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

रविशंकर विवि में त्रिवर्षीय जेम्स और जेमोलाजी कोर्स के लिए शुरू हुई प्रवेश परीक्षा

रायपुर। छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में स्थित पंडित रविशकंर शुक्ल विश्वविद्यालय में जेम्स एंड ज्वेलरी पर त्रिवर्षीय जेम्स एवं जेमोलाजी कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसमें छात्र-छात्राओं को आनलाइन प्रवेश लेना होगा और इसके लिए विवि की वेबसाइट में जाकर स्वयं ही यूजर आइडी व पासवर्ड बनान होगा। पहले वर्ष में डिप्लोमा, द्वितीय वर्ष में एडवांस डिप्लोमा और तीसरे वर्ष में बी.वीओसी डिग्री प्रदान की जाएगी।
रायपुर सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष हरख मालू ने बताया कि इस कोर्स में 31 अगस्त से प्रवेश प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। जो भी छात्र-छात्राएं प्रवेश लेना चाहते है उन्हें पीआरएसयूयूएनआइवी डाट इन में जाकर पार्म भरना होगा। छात्रों को छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की दसवीं व बारहवीं की मार्कशीट सबमिट करना होगा। उन्होंने बताया कि इस कोर्स में सेम कटिंग व पालिसिंग के अलावा ज्वेलरी डिजाइन के बारे में जानकारी दी जाएगी। तृतीय वर्ष में बी. वीओसी डिग्री के तहत छह सेमेस्टर होगं। इसमें छात्रों को जेम्स एंड ज्वेलरी इंडस्टी और प्रोफेशनल जानकारी भी दी जाएगी।
पाठ्यक्रम के लिए अलग से पचास लाख का फंड
बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री ने इस पाठ्यक्रम के लिए अलग से 50 लाख का फंड भी जारी किया है। इस कोर्स के शुरू होने से यहां के विद्यार्थियों को काफी फायदा पहुंचेगा।
बनाया जा रहा जेम्स एंड ज्वेलरी पार्क
पंडरी में जेम्स एंड ज्वेलरी पार्क भी बनाया जा रहा है। इस पार्क के बन जाने के बाद कारोबारियों के साथ ही कारीगर भी एक छत के नीचे होंगे। साथ ही सा्री सुविधाएं यहां उपलब्ध कराई जा रही है।