ब्रेकिंग
1.64 लाख चोरी; गड़बड़ी पकड़े जाने से पहले ही रफू चक्कर हो गया बड़ी संख्या में भक्तों ने किया मनमोहक गरबा कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग व्यवसाय कैसे शुरू करें | How to Start Computer and Laptop Repairing Business in Hindi बालोद की MLA संगीता सिन्हा ने जमकर खेला गरबा, खुद के बीच जनप्रतिनिधि को पाकर खुश हुई जनता करनैल गेट पर फायरिंग; 10 युवकों ने किया हमला; बदमाश बुलेट बाइक छोड़ कर फरार गरीबों के मिल रही सुविधा, फिजियोथेरेपी और सिलाई-कढ़ाई की दी गई जानकारी ट्रेडिशनल वेयर्स में स्टाइलिश लुक के लिए इन फुटवेयर्स को करें ट्राय ईरान से चीन जाने वाली फ्लाइट में  बम की सूचना से हड़कंप मकान बनाने वालो के लिए सुनहरा मौका, सरिया सीमेंट के दामों में आयी गिरावट चेतना अभियान के अंतर्गत महिला पुलिस थाना मुरैना द्वारा माता के पंडाल मे जाकर मानव दुर्व्यापार के संबंध मे जागरूक किया जाकर

भोपाल में 121 घरों में मिला डेंगू का लार्वा, नहीं किया जा रहा जुर्माना

भोपाल। भोपाल में कोरोना का प्रकोप भले ही नियंत्रित हो, लेकिन बारिश के इस सीजन में डेंगू पांव पसार रहा है। सोमवार को मलेरिया विभाग की टीम द्वारा किए गए सर्वे में 121 घरों में डेंगू और चिकनगुनिया फैलाने वाले मच्छर के लार्वा मिले हैं। इसी लार्वा से सात दिन के भीतर मच्छर बनते हैं। इन्हें नष्ट कर दिया जाए तो डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया जैसी बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को भोपाल मैं डेंगू से संक्रमित पाए गए लोगों के घरों के चारों ओर 50-50 घरों में लार्वा सर्वे किया गया। कुल 1228 घरों में सर्वे में 121 घरों में लार्वा मिला है।

स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों के मुताबिक फ्रिज के बास्केट, कूलर, गमले, चिड़ियों के लिए रखे गए बर्तनों में भरे पानी में लार्वा पनप रहे हैं। करीब 10 फीसद घरों में लार्वा मिल रहे हैं। इसके बाद भी नगर निगम की तरफ से मकान मालिकों पर जुर्माना नहीं किया जा रहा है। पिछले सालों में कुछ मकान मालिकों पर एक साल के भीतर कई बार लार्वा मिलने पर 200 से लेकर पांच हजार रुपये तक जुर्माना किया गया था। दूसरी बात यह है कि लार्वा सर्वे के लिए कर्मचारियों की संख्या भी नहीं बढ़ाई जा रही है। राजधानी में नगर निगम के 85 वार्डों के लिए सिर्फ 33 टीमें काम कर रही हैं, जबकि हर वार्ड में कम से एक टीम तो होनी ही चाहिए। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने बताया कि साकेत नगर, बागसेवनिया, कोटरा में डेंगू के ज्‍यादा मरीज मिल रहे हैं।