ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

ओडिशा के कलाकार की सुंदर कलाकृति, 5621 माचिस की तीलियों से तैयार की बप्‍पा की मूर्ति

पुरी। ओडिशा के पुरी में रहने वाले एक कलाकार ने शुक्रवार से शुरू होने वाले गणेश चतुर्थी उत्सव (Ganesh Chaturthi Festival) के लिए माचिस की तीलियों (Matchsticks) से भगवान गणेश (Lord Ganesha) की एक मूर्ति तैयार की है। गणेश जी की ये सुंदर कलाकृति 23 इंच लंबी और 22 इंच चौड़ी है। इसे बनाने में 5621 माचिस की तीलियों का प्रयोग किया गया है। कलाकार सास्वत साहू ( Saswat Sahu) ने एएनआई को बताया कि गणेश जी की इस अनोखी मूर्ति को तैयार करने में उन्हें आठ दिन का समय लगा है।

कलाकार सास्वत का कहना है कि “वर्तमान में चल रही कोरोना महामारी के कारण, गणेश चतुर्थी का पर्व अब प्रतिबंधों के बीच मनाया जा रहा है जिससे सामूहिक स्‍थानों पर होने वाली भीड़भाड़ खत्‍म हो चुकी है। इसलिए मैंने में भी कुछ नया करने का विचार आया और मैंने माचिस की तीलियों से बप्‍पा की नायाब प्रतिमा तैयार की है। महामारी के बीच मैं अपने घर में अब इस मूर्ति की ही पूजा करूंगा। दस दिन तक चलने वाले इस उत्‍सव की शुरुआत आज (10 सितंबर) गणेश चतुर्थी से हो रही है। ये पर्व पूरे देश में ही बहुत धूमधाम से मनाया जाता है जिसमें लाखों भक्त भगवान गणेश से आशीर्वाद लेने के लिए मंडलों में शामिल होते हैं, लेकिन महाराष्ट्र में इस पर्व की रौनक देखने लायक होती है लेकिन कोरोना महामारी ने पर्व का रंग फीका कर दिया है।

शिल्पकार संजय ने कील, कैसेट कवर और सुपारी से तैयार की गणपति की मूर्तियां

इसी तरह महाराष्ट्र के नासिक में रहने वाले एक शिल्पकार संजय भी कील, कैसेट कवर और सुपारी से गणपति जी की छोटी-छोटी सुंदर मूर्तिया तैयार करते हैं। संजय बीते 22 वर्षों से इस व्‍यवसाय में हैं और अब तक कुल 33,500 मूर्तियों का निर्माण कर चुके हैं। इन मूर्तियों का आकार 3 से 5 इंच के बीच होता है। संजय की नासिक में एक वर्कशाप और स्‍टोर हैं जहां वह पिछले कई वर्षो से अपने कार्य को विस्‍तार देते आ रहे हैं।