ब्रेकिंग
साकेत कोर्ट ने शरजील इमाम को दी जमानत पोहा बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें या पोहा मिल कैसे लगाये |Poha Making Business In Hindi बुमराह की जगह मोहम्मद सिराज टीम इंडिया में शामिल एमपीपीईबी व एमपीपीएससी में 5 साल से नहीं हुई भर्ती, छात्रों ने निकाली रैली दीपावली के अगले दिन रहेगा सूर्य ग्रहण, करीब एक घंटे का रहेगा समय क्या फ्लॉप फिल्मों के बाद आयुष्मान खुराना ने घटाई फीस? जबलपुर आर्डनेंस फैक्ट्री में आग से झुलसे गंभीर नंद किशोर को एयर एंबुलेंस से मुंबई ले जाने की तैयारी ITBP के SI ने की आत्महत्या, दफ्तर में फंदे पर लटकी मिली लाश बस्तर संभाग में नौ नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण चायपत्ती के बैग बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें | How to Start Tea Bag Making Business Plan In Hindi

फिर बढ़ी डेडलाइन, 1000 बिस्तर के अस्पताल का निर्माण 20 सितंबर तक पूरा करना हाेगा

ग्वालियर। 1000 बिस्तर के अस्पताल के शुभारंभ की तारीख एक बार फिर से आगे बढ़ गई है, पहले यह तारीख 15 अगस्त तय की गई थी, लेकिन इस तिथि पर अस्पताल तैयार नहीं हो सका। लेकिन अब इस अस्पताल को 20 सितम्बर तक पूरा करने का निर्देश संभागायुक्त आशीष सक्सेना ने निरीक्षण में दिया। इसके बाद 2 अक्टूबर को अस्पताल को लोकार्पण किया जाएगा। 20 सितम्बर तक ठेकेदार को 250 बिस्तरों का अस्पताल तैयार करके देना है, लेकिन आक्सीजन प्लांट से कनेक्शन नहीं हो पाने के कारण यह पलंग बिना आक्सीजन के रहेंगे।

गुरुवार को संभागायुक्त आशीष सक्सेना ने 1000 बिस्तर के अस्पताल का निरीक्षण किया। उन्होंने पीआइयू सेल के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि 250 बिस्तर के अस्पताल की 20 सितम्बर तक सभी व्यवस्थाएं पूर्ण कर ली जाए साथ ही उपकरणों और आइसीयू की सभी व्यवस्थाएं भी की जाएं। इसके बाद संभागायुक्त ने सुपरस्पेशलिटी में पहुंचकर डा अजय गौड़ से बात की, उन्होंने कहा कि सुपर स्पेशलिटी में आइपीडी प्रारंभ हो गई है। इसलिए जिन विभागों के डाक्टर यहां पर नहीं है, और जयारोग्य चिकित्सालय में है, वह अपनी ओपीडी एवं आइपीडी सुपरस्पेशलिटी में शुरू करें। निरीक्षण के दौरन डीन मेडीकल कॉलेज डा. समीर गुप्ता, अधीक्षक जेएएच डा. आरकेएस धाकड़, पीआइयू सेल के प्रदीप अष्ठपुत्रे सहित विभागीय अधिकारी मौजूद थे।

फूड टीम ने की जांच, दो डेयरी के सैंपल फेलः फूड एंड सेफ्टी टीम ने तानसेन रोड स्थित लक्ष्मी डेयरी, कृष्णा डेयरी, नरवरिया डेयरी, श्रीराम डेयरी एवं जैन किराना सहित चलित लैब के जरिए कुल 27 सैंपल लिए गए। इसमें नरवरिया डेयरी के पनीर व घी के सैंपल व श्रीराम डेयरी के दूध व घी के सैंपल फेल होने पर यहां से भी रेग्युलेटरी सैंपल लिए गए।