ब्रेकिंग
When a Cheater, Always a Cheater? 6 Strategie per Acquisire Back In The Online Gioco di appuntamenti Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा

इस साल हिंगोट युद्ध होगा या नहीं, हाई कोर्ट में सुनवाई आज

इंदौर। हर वर्ष दीपावली के दूसरे दिन गौतमपुरा में होने वाला हिंगोट युध्द इस साल होगा या नहीं। मंगलवार को हाई कोर्ट में होने वाली सुनवाई मेें यह तय हो सकता है। इस मामले को लेकर 2017 में एक जनहित याचिका दायर हुई थी। महामारी की वजह से लंबे समय से इसमें सुनवाई नहीं हो सकी थी। मंगलवार को मामले में बहस होना है। याचिका में मांग की गई है कि दशकों से जारी इस परम्परा को बंद किया जाए।
जनहित याचिका सामाजिक कार्यकर्ता एसपी नामदेव ने दायर की है। याचिकाकर्ता की तरफ से एडवोकेट प्रतीक माहेश्वरी पैरवी कर रहे हैं। कहा है कि हर साल हिंगोट युद्घ में कई लोग घायल हो जाते हैं। कई बार मौत भी हो चुकी है। 20 अक्टूबर 2017 को हुए हिंगोट युद्घ में 36 लोग घायल हुए थे। एक युवकी की मौत भी हुई थी। 2018 में भी हिंगोट युद्ध के दौरान आधा दर्जन से ज्यादा लोग गंभीर रुप से घायल हो गए थे हालांकि किसी की मौत नहीं हुई। याचिका में मांग की गई है कि जिस तरह से कोर्ट के दखल के बाद बाल विवाह, सती प्रथा जैसी कई प्रथाएं रोकी जा चुकी हैं वैसे ही हिंगोट युद्घ पर भी रोक लगाई जाए।
याचिका में शासन का जवाब आ चुका है। सरकार का कहना है कि लोगों को लगातार समझाई दी जाती है कि यह खतरनाक है, लेकिन चूंकि यह परंपरा है इसलिए जारी है। याचिकाकर्ता ने इस जवाब पर रिजाइंडर प्रस्तुत कर कहा था कि जब सरकार मान रही है कि हिंगोट युद्घ खतरनाक है तो इसे रोका क्यों नहीं जा रहा। मंगलवार की सुनवाई के बाद ही तय होगा कि इस साल 5 नवंबर को हिंगोट युद्ध होगा या नहीं।