ब्रेकिंग
मामूली विवाद पर लाठियों से भतीजे को बेरहमी से पीटा फायर ब्रिगेड की टीमों और पुलिस ने शुरू की जांच, बड़े पांडालों के पास लगाई फायर ब्रिगेड मेघनाथ का 70 तो कुंभकर्ण के 65 फीट पुतले का होगा दहन, मुकुट वाले हनुमान होंगे आकर्षक टीना डाबी के पहले पति अतहर ने रचाई दूसरी शादी किसानो के लिए बड़ी खबर, DAP और Urea के दाम हुए कम पहचान बदल कर युवक के प्रवेश पर विवाद, विश्व हिंदू परिषद कार्यकर्ताओं ने किया पुलिस के हवाले चायपत्ती के बैग बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें | How to Start Tea Bag Making Business Plan In Hindi मोबाइल पर गेम खेल रहे युवक पर रॉड और चाकू से हमला, 2 आरोपी गिरफ्तार शिवसेना पंजाब चेयरमैन सहित दोनों पक्ष के 11 लोगों पर मामला दर्ज,पुलिस की रेड जारी Kyle Benson: An Union Coach Emphasizing Intentional, Intimate & Secure Bonds Between Committed Partners

केंद्रीय विवि में स्नातक पास छात्रों को पीजी प्रवेश में मिले 50 फीसद की छूट

बिलासपुर। गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय छात्र परिषद और ब्रदरहूड पैनल की ओर से कुलपति के नाम छात्रों ने ज्ञापन सौंपा है। जिसमें यूटीडी से स्नातक उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम के प्रवेश में 50 फीसद छूट प्रदान करने मांग किया है। छात्रों ने इंस्टीट्यूशनल बेनिफिट (आरक्षण) को लेकर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) नियमों का हवाला भी दिया है। कुलपति प्रो.आलोक चक्रवाल ने जांच कर छात्रहित में निर्णय का आश्वासन दिया है।

छात्र परिषद के अध्यक्ष सचिन गुप्ता ने आरक्षण को लेकर कहा कि देश के दूसरे केंद्रीय विश्वविविद्यालयों में स्नातक पास छात्र-छात्राओं को पीजी प्रवेश में छूट दी जा रही है। जबकि गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय के छात्र इससे वंचित है। ई-वीइटी और रिसर्च प्रवेश परीक्षा दोनों में यह नियम लागू होता है। परिषद ने आनलाइन प्रवेश की प्रक्रिया पर भी उंगली उठाते हुए कहा कि प्रवेश परीक्षा को लेकर मापदंड स्पष्ट नहीं है। लिहाजा इस पर तत्काल रोक लगाया जाए। प्रबंधन से यह भी मांग किया गया कि प्रवेश को लेकर विस्तृत दिशा निर्देश या सटिक नियमावली प्राप्त नहीं होने पर उग्र आंदोलन किया जाएगा।

कुलपति प्रो.आलोक ने दी जानकारी

कुलपति प्रो.आलोक ने छात्रों की समस्या सुनने के बाद उन्हें भ्रमित नहीं होने और स्पष्ट गाइडलाइन को लेकर जानकारी प्रदान किया। छात्रों को भरोसा दिलाया कि प्रदेश में यह पहली संस्था है जो आनलाइन प्रवेश की प्रक्रिया सरल तरीके से उपलब्ध करा रही है। छात्र संगठनों को आगे आकर इसका समर्थन करना चाहिए। नियमावली को लेकर यदि कोई संकोच है तो इसे इंटरनेट मीडिया पर भी सार्वजनिक की जाएगी। आवेदन के दौरान बच्चों को पूरी प्रक्रिया से अवगत कराया जा रहा है।