ब्रेकिंग
Essay Help From Licensed Authors Come affrontare Nervosismo estremo मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ महिला श्रमिक की मौत पर की खबर के बाद जागे परिवहन विभाग और ट्रैफिक पुलिस, नामली थाना क्षेत्र में की कार्रवाई AIIMS : ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर बैन अब तक 7 के शव बरामद, आईएएफ ने 2 चीता हेलीकॉप्टर किए तैनात, 8 लोगों का सफल रेस्क्यू क्या Pavitra Punia- Ejaz Khan ने  कर ली सगाई? दशहरे के दिन ही खुलता है रावण के इस मंदिर का द्वार खुद स्टार्ट किया पम्पिंग सेट, कहा- पशुओं में दूध की होती है वृद्धि हटाए गए कर्मियों को नौकरी देने की मांग, 19-20 को करेंगे भूख हड़ताल

पूरी तरह से भरने में बांगो बांध अब भी दूर

कोरबा। जिले में हुई भारी बारिश के बावजूद बांगो बांध पूरी तरह भरने में 1.96 मीटर कम है। बीते साल सितंबर माह में पूर्ण भराव की वजह से दो गेट खोलना पड़ा था। वर्तमान में बांध 357.02 मीटर भर चुका है। बांध में प्रतिदिन 42.0 मिलियन घन पानी आ रहा है उसे नहरो में सिंचाई के लिए छोड़ा जा रहा है। ऐसे में बांध का भराव स्थिर है।
बांगो बांध की पूर्ण जल भराव क्षमता 359.66 मीटर है। मानसून आगमन के बाद बीते वर्ष की तुलना में जिले में 132.4 मिमी अधिक वर्षा हो चुकी है। बांध में पानी का भराव ऊपरी क्षेत्र कोरिया जिला के अलावा डुबान क्षेत्र में होने वाली वर्षा पर निर्भर है। बांध के पानी से जांजगीर के अलावा रायगढ़ जिले के खेतों में सिंचाई होती है। इन जिलों में आवश्यकता से कम वर्षा होने से सिंचाई के लिए पानी दी जा रही है। बांध में ऊपरी क्षेत्र जितना पानी आ रहा है उससे हाइडल प्लांट को 60 घंटे चलाकर 42.0 मिलियन घन मीटर पानी छोड़ा जा रहा है।
मिनीमाता हसदेव परियोजना के मुख्य कार्य पालन अभियन्ता केशव कुमार का कहना है किसानों की मांग के अनुसार पानी दिया जा रहा है। अधिकाई का यह भी कहना है कि दीगर जिले में भी मानसून का असर पहले बेहतर होने से पानी की मांग घट सकती है। मानसून अब समापन की ओर है ऐसे में इस वर्ष बांध में पूर्ण जल भराव की संभावना कम है। किसानों को खरीफ के अलावा आगामी रबी फसल के लिये पानी की समस्या नही होगी। इधर दर्री बांध में ऊपरी क्षेत्र से पानी का प्रवाह बढ़ने से माह भर के भीतर ढाई हजार मिलियन घन मीटर से भी अधिक पानी गेट से छोड़ा जा चुका है।