ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

तालिबानी नेता मुल्ला बरादर को TIME मैगजीन में मिली जगह, 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में शामिल

वाशिंगटन। टाइम मैगजीन 2021 (TIME magazine 2021) ने दुनिया के 100 सबसे अधिक प्रभावशाली लोगों की सूची जारी की है। इसमें एक ऐसा नाम भी शामिल है, जिसने सभी को हैरान कर दिया है। तालिबान की नई सरकार में उप प्रधानमंत्री और दोहा सौदे के शीर्ष व्यक्ति मुल्ला अब्दुल गनी बरादर ( Mullah Abdul Ghani Baradar) को टाइम मैगजीन की 100 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में शामिल किया गया है। शांति समझौते के दौरान अमेरिका के साथ बातचीत में मुल्ला बरादर ने तालिबान का नेतृत्व किया था।

टाइम पत्रिका द्वारा जारी सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया के आदर पूनावाला शामिल हैं। इसके अलावा इस वैश्विक सूची में चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग, प्रिंस हैरी और मेगन, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, उपराष्ट्रपति कमला हैरिस और अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप शामिल हैं।

फरवरी 2020 में जब अफगान सुलह के लिए अमेरिकी विशेष प्रतिनिधि जल्मय खलीलजाद ने आधिकारिक तौर पर दोहा में शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए तो बरादर तालिबान का प्रमुख चेहरा था। टाइम पत्रिका ने बरादर का परिचय देते हुए उन्हें ऐसा शांत, रहस्यमय व्यक्ति बताया है जो शायद ही कभी सार्वजनिक बयान या साक्षात्कार देते हों। इसमें कहा गया है कि पूर्व शासन के सदस्यों को माफी देना, तालिबान के काबुल में प्रवेश करने पर रक्तपात न करना और पड़ोसी राज्यों चीन और पाकिस्तान के साथ संपर्क और यात्राओं सहित सभी प्रमुख निर्णय मुल्ला बरादर ने ही लिए।

2010 में बरादर को देश के सुरक्षा बलों द्वारा पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया था और 2018 में रिहा किया गया था, जब अमेरिका ने अफगानिस्तान छोड़ने के प्रयास तेज कर दिए थे। हालांकि, तालिबान के सह-संस्थापक होने और अमेरिका के साथ बातचीत में शीर्ष भूमिका निभाने के बावजूद, यह माना जाता है कि कार्यवाहक सरकार में बरादर को अपेक्षाकृत कम स्थान दिया गया है।