ब्रेकिंग
मुलायम सिंह यादव मेदांता अस्पताल में हैं भर्ती संजय गांधी टाइगर रिजर्व में बढ़ रही बाघों की संख्या, सैलानियों में भी हो रहा इजाफा सफीदों रोड पर 4 लोगों ने किया हमला, कोर्ट के आदेश पर FIR 50 लोगों को ट्रॉली में बेठाकर सड़क पर दौड़ रहा ट्रैक्टर, मूकदर्शक बनी पुलिस नॉर्थ कोरिया ने जापान के ऊपर से दागी बैलिस्टिक मिसाइल विद्याधाम परिसर गूंज रहा मां पराम्बा के जयघोष एवं स्वाहाकार की मंगल ध्वनि से वीडियो वायरल : एयरपोर्ट पर करीना कपूर के साथ बदसलूकी.. इस देवी मंदिर में है 51 फीट ऊंचे दीप स्तंभ, जान जोखिम में डालकर इन्हें कैसे जलाते हैं मां वैष्णो के दरबार में पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह हर रूप में स्त्री का सम्मान करने से प्रसन्न होती हैं मां जगदंबा

जीजा के घर जाने के लिए निकला युवक, रेलवे ट्रैक पर मिला शव, सिर अलग पड़ा था

ग्वालियर। हजीरा थाने के पीछे रेलवे ट्रैक पर युवक की लाश मिली। शव का सिर धड़ से अलग था। मौके पर पहुंची पुलिस को प्राथमिक जांच में यह मामला आत्महत्या का लग रहा है। मृतक की पहचान हो गई है। पुलिस का कहना है मृतक शराब पीने का आदी था, अपने घर से जीजा के घर जाने के लिए निकला था। फिलहाल पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। पुलिस के मुताबिक तारागंज निवासी उमेश कुशवाह की लाश रेलवे ट्रैक पर मिली। उमेश कुछ दिनों से परेशान था। बताया जाता है कि उसने शादी नहीं की थी। उसके साथ एक महिला रहती थी, लेकिन कुछ दिन पहले वह छोड़कर चली गई थी। इसके बाद से वह काफी परेशान रहने लगा था। बुधवार रात को उसका शव रेल पटरी पर पड़ा मिला। परिजनों का कहना है कि मौत से पहले उसने घर पर फोन भी किया था। वह काफी परेशान था। वह बार-बार कह रहा था कि वह तो अनाथ है, उसका कोई नहीं है। घरवालों ने उसे समझाया, लेकिन वह हर बार यही बात दोहरा रहा था। टीआइ हजीरा थाना आलोक परिहार ने बताया कि रेल पटरी पर एक युवक की लाश मिली है। वह जीजा के घर जाने के लिए निकला था। बताया जाता है कि कुछ दिन से परेशान था।

सीएम हेल्पलाइन में ढ़िलाई पर बाबू निलंबितः सीएम हेल्पलाइन के निराकरण में बरती गई ढ़िलाई बाबू सहायक वर्ग-2 पीएस राजपूत को भारी पड़ी है। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। आदिम जाति कल्याण विभाग में आवास सहायता योजना शाखा के प्रभारी लिपिक राजपूत ने बार-बार निर्देश मिलने के बावजूद सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों के निराकरण के लिए कोई कार्यवाही नहीं की, जिसे कलेक्टर ने गंभीरता से लिया है। निलंबन अवधि में इनका मुख्यालय कलेक्टर कार्यालय रहेगा। साथ ही उन्हें नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्तों की पात्रता रहेगी।