ब्रेकिंग
उदयपुर हत्याकांड के विरोध में बंद रहा बाजार, चप्पे-चप्पे पर तैनात रहे जवान यूपीएसएसएससी पीईटी नोटिफिकेशन जारी काशी विश्वनाथ धाम में अब बज सकेगी शहनाई, होंगी शादियां प्रदेश में मंत्री से लेकर संतरी तक भ्रष्टाचार में संलिप्त, भ्रष्टाचारियों की गिरफ्तारी के मुद्दे पर आप लड़ेगी निगम चुनाव अज्ञात युवकों ने कॉलेज कैंटीन में बैठे 3 छात्रों पर किया तेजधार हथियार से हमला; 1 की हालत गंभीर सिवनी कोर्ट परिसर में न्यायाधीशों समेत 27 ने किया रक्तदान, वितरित किए प्रमाण पत्र पड़ोस में रहने आयी छात्रा से जान पहचान बना डिजिटल रेप करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार लोगों ने की आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग, टायर जलाकर की नारेबाजी 12 जुलाई को देवघर जाएंगे पीएम मोदी रिलायंस जिओ डीटीएच प्लान्स ऑफर और आवेदन की जानकारी | Reliance Jio DTH Setup Box Plan Offer Online Booking Information in hindi

आरटीई के तहत स्कूलों में दाखिले के लिए आवेदन 15 से

रायपुर।  स्कूल शिक्षा विभाग ने शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) के तहत दाखिले के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी है। सत्र 2020-21 के लिए प्रदेश भर से मुफ्त शिक्षा के लिए 15 मार्च से 15 अप्रैल तक आवेदन मंगाए गए हैं। बता दें कि प्रदेश के 12 हजार से अधिक निजी स्कूलों में 80 हजार सीटों के लिए पालक आवेदन कर सकेंगे।

शहरी इलाकों में अपने घर से तीन किलोमीटर के दायरे में आने वाले निजी स्कूलों में आवेदन किए जा सकेंगे और ग्रामीण इलाकों में यह दायरा आवश्यकता पड़ने तक पांच किमी तक बढ़ाया जा सकेगा। इसके लिए शहर के हर गली-मोहल्ले और गांव-गांव तक प्रचार-प्रसार किया जाएगा।

निजी स्कूलों में दाखिले के लिए वे बच्चे पात्र होंगे, जिनके पालक बीपीएल कार्डधारी, एससी, एससटी, मानसिक या शारीरिक दिव्यांग, एचआइवी पीड़ित, अनाथ व अन्य वंचित हैं। राज्य में 46 लाख बीपीएल कार्डधारी परिवार हैं। 40 प्रतिशत मानसिक दिव्यांगों को सरकारी या निजी अस्पताल से जारी प्रमाण पत्र देना पड़ेगा।

आवेदन, बदलाव, जिलेवार सीट निर्धारण आदि की प्रक्रिया फरवरी माह के अंत तक पूरी हो जाएगी। जिलेवार सीटों की संख्या, स्कूलों के बारे में बेवसाइट से जानकारी ली जा सकती है। शिक्षा का अधिकार के तहत प्रदेश भर के प्राइवेट स्कूलों में नर्सरी से लेकर पहली क्लास तक दाखिला दिया जाता है।

रायपुर में 820 निजी स्कूलों एडमिशन लिया जाएगा, इनमें लगभग नौ हजार लगभग सीटें हैं। आरटीई के तहत नर्सरी, केजी वन और पहली में दाखिला कराने के लिए बच्चे की उम्र तीन से छह साल निर्धारित की गई है। इनमें नर्सरी के लिए तीन से चार साल निर्धारित है।