ब्रेकिंग
ना बैनर लगाऊंगा, ना पोस्टर लगाऊंगा, ना ही किसी को एक कप चाय पिलाऊंगा, उसके बाद भी अगले लोकसभा चुनाव में भारी मतों से चुन कर आऊंगा, यह मेरा अहंकार नहीं... नए जिला बनाने पर बड़ा बयान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के ऐसे बयान की किसी को नही थी उम्मीद छत्तीसगढ़ में लगातार पांचवे उपचुनाव में कांग्रेस जीती, भाटापारा मंडी में जमकर हुई आतिशबाजी, मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भानूप्रतापपुर की जीत मुख्य... Anti virus For Business Endpoints Choosing Board Webpage Providers 5 Reasons to Ask Someone to Write My Essay For Me 5 Reasons to Ask Someone to Write My Essay For Me Avast Password Off shoot For Stainless- Antivirus Review - How to Find the very best Antivirus Computer software आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया

कांग्रेस सेवा दल के अतिरिक्त प्रदेश मुख्य संगठक अशोक शुक्ला हटाए गए

बिलासपुर। प्रदेश की सत्ता में वापसी के दो वर्ष बाद कांग्रेसी रणनीतिकारों ने अब अनुषांगिक संगठनों को दुस्र्स्त करने का काम शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में सेवादल में एक बड़ा और अहम बदलाव किया गया है। प्रदेश सेवादल के अतिरिक्त मुख्य संगठक अशोक शुक्ला को पद से हटा दिया गया है। इसके अलावा प्रदेश संयोजक यंग ब्रिगेड हेमंत वर्मा को भी दायित्व से मुक्त कर दिया गया है। अखिल भारतीय कांग्रेस सेवादल के अध्यक्ष लालजी भाई देसाई के आदेश के बाद बड़ा बदलाव किया गया है।

कांग्रेस के अनुषांगिक संगठनों में सबसे अहम माने जाने वाले सेवादल के संगठनात्मक ढांच में बदलाव होना शुरू हो गया है। लंबे अरसे से प्रदेश अध्यक्ष फिर प्रदेश मुख्य संगठक के पद पर काबिज अशोक शुक्ला की सेवादल से विदाई कर दी गई है। उन्हें उनके दायित्वों से तत्काल प्रभाव से हटा दिया है। उनके अलावा प्रदेश संयोजक यंग ब्रिगेड हेमंव वर्मा की भी विदाई कर दी गई है। प्रदेश सचिव सज्जन प्रसाद दीक्षित को भी उनके पद से हटा दिया गया है।

राष्ट्रीय अध्यक्ष देसाई द्वारा की गई कार्रवाई के पीछे संगठन को पहले की तुलना में दुस्र्स्त करने के अलावा अनुशासन को सर्वोच्च प्राथमिकता देना माना जा रहा है। चर्चा तो इस बात की भी हो रही है कि विधानसभा और उसके बाद हुए लोकसभा चुनाव के दौरान संगठन के महत्वपूर्ण पदों पर काबिज पदाधिकारियों की भूमिका को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर शिकायत दर्ज कराई गई थी।

संगठन से जुड़े आला पदाधिकारियों के अलावा सत्ता से जुड़े दिग्गज कांग्रेसी नेताओं ने भी अपनी बात राष्ट्रीय अध्यक्ष तक पहुंुचाई थी। शिकायतांे को गंभीरता से लेते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अपने स्तर पर पड़ताल भी कराया था। शिकायतों की पुष्टि के बाद इस तरह का बड़ा फैसला लेना माना जा रहा है।

अति प्रदेश मुख्य संगठन व प्रदेश महासचिव की नियुक्ति

संगठन में फेरबदल के साथ ही नए लोगों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। पहली बार प्रदेश में अतिरिक्त मुख्य संगठक के दो और प्रदेश महासचिव के दो पद सृजित किए गए हैं। संगठन के कामकाज को सुचास्र् रूप से संचालित करने के लिए इस तरह की व्यवस्था करना माना जा रहा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्देश पर अतिरिक्त प्रदेश संगठक के पद पर संतोष पांडेय एवं प्रेम सागर सिंह को जिम्मेदारी दी गई है। मनोज वर्मा एवं पुनीत राम चौहाने को प्रदेश महासचिव के पद पर काबिज किया गया है। विलियम बंसोड़ को प्रदेश संयोजक यंग ब्रिगेड की जिम्मेदारी दी गई है।