ब्रेकिंग
Essay Help From Licensed Authors Come affrontare Nervosismo estremo मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ महिला श्रमिक की मौत पर की खबर के बाद जागे परिवहन विभाग और ट्रैफिक पुलिस, नामली थाना क्षेत्र में की कार्रवाई AIIMS : ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर बैन अब तक 7 के शव बरामद, आईएएफ ने 2 चीता हेलीकॉप्टर किए तैनात, 8 लोगों का सफल रेस्क्यू क्या Pavitra Punia- Ejaz Khan ने  कर ली सगाई? दशहरे के दिन ही खुलता है रावण के इस मंदिर का द्वार खुद स्टार्ट किया पम्पिंग सेट, कहा- पशुओं में दूध की होती है वृद्धि हटाए गए कर्मियों को नौकरी देने की मांग, 19-20 को करेंगे भूख हड़ताल

श्रेयस अय्यर ने खेली दमदार पारी, कहा- संतुष्ट नहीं हूं, रिषभ पंत को कप्तान बनाए जाने पर भी दिया बयान

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन के दूसरे चरण में भी दिल्ली कैपिटल्स का जलवा बरकरार है। बुधवार को सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ टीम ने 8 विकेट की दमदार जीत हासिल की। इस जीत में टीम के पूर्व कप्तान श्रेयस अय्यर के बल्लेबाज से निकली 47 रन की पारी अहम रही। उन्होंने चोट के बाद वापसी करते हुए पहली ही पारी में शानदार खेल दिखाया। इस पारी के बाद उन्होंने रिषभ पंत की कप्तानी को लेकर भी बात की।

अय्यर ने हैदराबाद के खिलाफ बुधवार को 41 गेंद पर 2 चौके और 2 छक्के की मदद से 47 रन की नाबाद पारी खेली। पहले बल्लेबाजी करते हुए हैदराबाद की टीम 9 विकेट के नुकसान पर 134 रन का स्कोर खड़ा किया था। जवाब में दिल्ली ने महज 2 विकेट के नुकसान पर 17.5 में जीत का लक्ष्य हासिल कर लिया।

अय्यर ने कहा, देखिए, जब मुझे कप्तानी दी गई थी तब मेरे सोचने का तरीका कुछ और था। मेरे फैसले लेने की क्षमता और सोच बहुत ही अच्छी थी और इससे मुझे पिछले दो सालों में काफी मदद मिली है। कप्तानी में बदलाव करने का फैसला फ्रेंचाइजी टीम मैनेजमेंट का है, और जो भी फैसला उन्होंने लिया मैंने उसे स्वीकार कर लिया। इस सीजन की शुरुआत से ही रिषभ टीम की कप्तानी काफी अच्छी तरह से कर रहे हैं तो इसी वजह से उन्होंने सोचा कि उनको कप्तानी करते रहने दिया जाए, जब तक यह सीजन खत्म नहीं होता है।

अय्यर ने कहा कि वह इस पारी के खुश तो हैं लेकिन संतुष्ट नहीं हुए। उन्होंने कहा, ईमानदारी से कहूं तो मुझे बहुत ही अच्छा एहसास हो रहा है। मैं यह तो नहीं कहना चाहूंगा कि संतुष्ट हू क्योंकि अब जो भूख है वो पहले से कहीं और ज्यादा बढ़ चुकी है। जैसे जैसे आप खेलते जाते हैं उसी हिसाब से हर दिन आपकी भूख और ज्यादा बढ़ती जाती है। तो इसी वजह से मैं संतुष्ट नहीं हूं और ना ही इससे मेरा मन भरा है।