ब्रेकिंग
मथुरा पुलिस के हाथ लगे संदिग्ध के फोटो, चोरों की तलाश में जुटी पुलिस इलेक्शन मोड में काग्रेस, इसलिए 'दागियों' पर अभी नो एक्शन डॉक्टरी-इंजीनियरिंग की पढ़ाई के साथ विद्यार्थियों को स्टार्टअप के लिए भी सहयोग की व्यवस्था – मुख्यमंत्री चौहान अलवर पुलिस ने जीरो FIR दर्ज कर रेवाड़ी भेजी; महिला पर संगीन आरोप AAP सुप्रीमो ने ट्वीट लिखा- गुजरात का सह प्रभारी बनने के बाद AAP सांसद केंद्र के टारगेट पर टिफ़िन सर्विस का बिज़नेस कैसे शुरू करें | How to Setup Tiffin Service centre in hindi छत्तीसगढ़ के स्टार्टअप ईको सिस्टम को देखने जल्द आयेगा ऑस्ट्रिया का दल एंबुलेंस में पकड़े गए 25 करोड़ के फर्जी नोट नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. डहरिया ने नगर पंचायत समोदा को प्रदान की एम्बुलेंस गैंगस्टर जग्गू भगवानपुरिया के करीबियों को मारने की बना रहे थे प्लानिंग, 4 पिस्टल रिकवर

हाईवे पर सराहनीय सक्रियता, खराब सड़क को दुरुस्त करने के लिए युद्धस्तर पर काम

रायपुर। रायपुर से भिलाई के बीच खस्ताहाल राष्ट्रीय राजमार्ग पर आवागमन सुचारू बनाने के लिए लोक निर्माण विभाग ने सक्रियता दिखाई है। पिछले कई महीनों से बमुश्किल आधे घंटे की दूरी तय करने के लिए लोगों को तीन से साढ़े तीन घंटे के जाम से जूझना पड़ रहा है। उम्मीद की जानी चाहिए विभागीय मंत्री ताम्रध्वज साहू के निर्देश पर विभागीय अधिकारी द्वारा किए गए प्रयास के सकारात्मक परिणाम आएंगे और प्रदेश के दोनों प्रमुख शहरों के लोग राहत की सांस लेंगे।

रायपुर के टाटीबंध से भिलाई के नेहरू नगर चौक तक 26.8 किलोमीटर की दूरी में चार फ्लाईओवर निर्माणाधीन हैं। यह बेहतर भविष्य की तैयारी है, परंतु वर्तमान पीड़ादायक हो गया है। सर्विस लेन पर बड़े-बड़े गड्ढे हैं। स्थानीय प्रशासन की लापरवाही के कारण दुकानदारों ने भी कब्जे कर रखे हैं। इसकी वजह से पूरे दिन जगह-जगह जाम लगा रहता है। निर्माण शुरू होने के बाद के 36 महीनों में इस मार्ग पर 109 लोगों की मौत हो चुकी है और 400 से अधिक लोग घायल हुए हैं

महत्वपूर्ण पक्ष यह भी है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से लेकर विभागीय मंत्री ताम्रध्वज साहू और कृषि मंत्री रविंद्र चौबे तक दुर्ग जिले का प्रतिनिधित्व करते हैं और राजधानी रायपुर उनका मुख्य कार्यक्षेत्र है। आम लोगों की समस्या पर ससमय ध्यान नहीं दिए जाने के कारण हाल के दिनों में विरोध प्रदर्शनों में भी तेजी आई है। कभी महिलाएं गड्ढों में कैटवाक कर रही हैं, रंगोली बना रही हैं तो कभी हजामत बनाई जा रही है।

इन सबके बीच जरूरी है कि फ्लाईओवर निर्माण की गति बढ़ाई जाए और सर्विस रोड को ठीक किया जाए। पीडब्ल्यूडी सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी ने सड़क का जायजा लेने के साथ जाम की वजह बने चारों फ्लाईओवरों का काम अगस्त, 2022 तक पूरा करने को कहा है। इसका फायदा हुआ है कि सड़क मरम्मत में लगे श्रमिकों की संख्या चार गुना बढ़ा दी गई है।

अगले 15 से 20 दिनों में कुम्हारी फ्लाईओवर का उपयोग शुरू हो जाने से भी छोटे वाहनों की गति तेज होगी। नियमित निगरानी हो, ताकि निर्माण की गति शिथिल न हो। ऐसी ही स्थिति राज्य में अन्य मुख्य मार्गों की भी है। लोग तरह-तरह से विरोध दर्ज करा रहे हैं। जांजगीर-रायगढ़ हाईवे पर गड्ढों के विरोध में लोगों ने पितृ पक्ष में पिंडदान कर विरोध जताया है

इसी तरह कटघोरा-रतनपुर, जशपुर हाईवे भी खस्ताहाल हैं। गडमा-माकड़ी और रायपुर-धमतरी फोरलेन मार्ग भीलंबे समय से निर्माणाधीन हैं और अंतहीन समस्या बन चुके हैं। मानसून समाप्त हो रहा है। अब निर्माण की धीमी गति के लिए मौसम का बहाना नहीं चलेगा। प्रदेश सरकार को पुरजोर दबाव बनाना होगा कि एनएचएआइ और संबंधित विभाग प्राथमिकता के आधार पर इन मार्गों को ठीक कराएं।