ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

नरेंद्र तोमर ने किसानों को दिया बातचीत का न्यौता, टिकैत बोले- कृषि मंत्री रट्टू हैं

केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आज बुलाए गए भारत बंद का असर दिखने लगा है। दिल्ली से लेकर कोलकाता तक किसान धरने पर बैठे हुए हैं। इसी बीच केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों से आंदोलन का रास्ता छोड़कर बातचीत से मुद्दे का समाधान निकालने की अपील की है

नरेंद्र तोमर के बयान पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि कृषि मंत्री रट्टू हैं, उनके पास बस यही लाइन हैं। टिकैत ने कहा कि हम आंदोलन तब तक खत्म नहीं करेंगे जब तक कृषि कानून खत्म नहीं होगा। टिकैत ने कहा कि आप अपने विचारों से किसी को बदल सकते हैं बंदूक से नहीं।

किसान नेता ने कहा कि लगता है कृषि मंत्री को बचपन से पढ़ाया गया है कि जितना लिखा है बस उतना ही बोलना है, उससे ज्यादा कुछ नहीं कहना है। टिकैत ने कहा कि कृषि मंत्री बस यही बोल रहे है कि कृषि कानून में संशोधन होगा उस पर बात करनी है तो कर लो। भारत बंद के चलते किसानों ने जगह-जगह जाम लगाया हुआ है। किसान आंदोलन को 300 से ज्यादा दिन हो चुके हैं।