ब्रेकिंग
जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे 63 कैदी रिहा भारतीय वायुसेना में शामिल हुए हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर 'प्रचंड' छत्तीसगढ़: कुम्हारी हत्याकांड पर सियासी बवाल नशे का इंजेक्शन लगाकर गिरते-गिरते अपने मोटरसाइकिल तक पहुंचा युवक, सीधा खड़ा भी नहीं हो पाया पोहा बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें या पोहा मिल कैसे लगाये |Poha Making Business In Hindi कुम्हारी हत्याकांड पर सियासी बवाल युवती को पता चलने पर धमकाया, हिंदूवादी संगठन ने युवक की पिटाई की दुर्गोत्सवऔर दशहरा उत्सव मनाने ट्रैफिक पुलिस ने बनाया प्लान, शाम 5 बजे से रात दो बजे तक रूट रहेगा डायवर्ट महिलाओं ने की 18 किलोमीटर पैदल यात्रा, मां जालपा को ओढाई 72 मीटर लंबी चुनरी MP की सबसे लंबी मोहनिया सुरंग बनकर तैयार, जाने क्या है, खासियत

महाराष्ट्र में भाजपा के राज्यसभा प्रत्याशी ने नाम वापस लिया, पटोले ने किया था फडणवीस से आग्रह

महाराष्ट्र में अगले महीने होने वाले राज्यसभा उपचुनाव के लिये सोमवार को भारतीय जनता पार्टी द्वारा अपना उम्मीदवार वापस लेने के बाद कांग्रेस की वरिष्ठ नेता रजनी पाटिल का संसद के उच्च सदन के लिये निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया है। मई में कांग्रेस सांसद राजीव सातव के निधन के बाद इस सीट पर उप चुनाव कराना आवश्यक हो गया था। उच्च सदन में उनका कार्यकाल दो अप्रैल 2026 तक था। अगले महीने की चार तारीख को होने वाले उप चुनाव के लिये नामांकन पत्र वापस लेने की अंतिम तिथि सोमवार (27 सितंबर) थी।

भारतीय जनता पार्टी ने इस उप चुनाव के लिये संजय उपाध्याय को मैदान में उतारा था और अब चुनाव मैदान से उन्हें हटा लिया गया है। इसके बाद पाटिल (62) के निर्विरोध निर्वाचन का रास्ता खुल गया है। इस सीट के लिए दो ही उम्मीदवार थे। उपाध्याय ने संवाददाताओं से कहा कि राज्य में कांग्रेस नेताओं ने भाजपा से उम्मीदवार वापस लेने की अपील की थी ताकि कांग्रेस प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित हो सकें। उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी के निर्देशानुसार मैने अपना पर्चा वापस ले लिया है। मेरी उम्मीदवारी वापस लिये जाने का फैसला प्रदेश भाजपा की कोर कमेटी की बैठक में किया गया।

पिछले सप्ताह महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले और उनकी पार्टी के सहयोगी एवं मंत्री बालासाहेब थोराट ने विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात कर पाटिल के निर्विरोध निर्वाचन की राह बनाने का आग्रह किया था। महाराष्ट्र विधानसभा में 288 सदस्य हैं जिनमें से भारतीय जनता पार्टी के पास 106 सीटें हैं। पाटिल प्रदेश में सत्तारूढ़ महा विकास आघाड़ी की उम्मीदवार हैं, जिसकी अगुवाई शिवसेना कर रही है। कांग्रेस महा विकास आघाड़ी की एक मुख्य घटक है।