ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

कैलाश विजयवर्गीय ने कन्हैया कुमार के कांग्रेस में शामिल होने पर कसा तंज, कहा-गटर से निकले नाले में फंसे

इंदौर। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने पूर्व सीपीआइ नेता कन्हैया कुमार के कांग्रेस में शामिल होने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि अगर कोई गटर से निकल कर नाले में गिर जाता है, तो मुझे उससे सहानुभूति ही हो सकती है। गौरतलब है कि पूर्व में कम्युनिस्ट पार्टी आफ इंडिया (भाकपा) से जुड़े छात्र नेता कन्हैया कुमार मंगलवार को कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। कन्हैया पिछले दिनों में राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मिल चुके हैं। पार्टी मानती है कि कन्हैया कांग्रेस के हाथ मजबूत करेंगे।  कांग्रेस में शामिल होने के बाद कन्हैया ने लोकतंत्र बचाने की गुहार लगाई। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नहीं बची तो लोकतंत्र नहीं बचेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में इसलिए शामिल हुए, क्योंकि कांग्रेस महात्मा गांधी, बाबा साहेब आंबेडकर, सरोजनी नायडू की विरासत को लेकर चल रही है।

इधर, कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कन्हैया को अभिव्यक्ति की आजादी के योद्धा का प्रतीक बताया और भरोसा जताया कि उनके आने से पार्टी कार्यकर्ता उत्साहित होंगे। उधर, मनीष तिवारी के ट्वीट ने यह स्पष्ट कर दिया है कि पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की टोली कुछ और सोचती है। तिवारी जी-23 समूह के नेताओं में शामिल रहे हैं। उनका पहला ट्वीट तब हुआ, जब कन्हैया के आने की अटकलें चल रही थीं। उन्होंने इशारों-इशारों में तंज किया। उन्होंने कहा 1973 में एक किताब लिखी गई थी, जिसका नाम था ‘कम्युनिस्ट इन कांग्रेस’। मैंने इसे आज फिर से पढ़ा। उनका कहना था कि चीजें जितनी ज्यादा बदलती हैं वे उतनी ही पुराने स्वरूप में आ जाती हैं। गौरतलब है कि कन्हैया 2019 में भाकपा के टिकट पर बिहार की बेगूसराय सीट से लड़े थे। इस बीच, कन्हैया के भाकपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने पर पार्टी महासचिव डी.राजा ने कहा कि कन्हैया कुमार ने खुद को भाकपा से निष्कासित कर दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि कुमार भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व के साथ सच्चे नहीं थे। राजा ने कहा कि उन्होंने खुद को पार्टी से निकाल दिया। कन्हैया के पार्टी में आने से बहुत पहले से भाकपा मौजूद थी और उनके जाने के बाद भी बनी रहेगी