ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

बिना छुट्टी के रोज घंटों खट रहे पुलिसकर्मी, फिर उठी साप्ताहिक अवकाश की मांग

रायपुर।  पुलिस के जवानों को साप्ताहिक अवकाश देने की सरकार की घोषणा के बाद कुछ महीने तक अवकाश तो दिया गया, लेकिन बाद में बल की कमी बताकर बंद कर दिया गया। पुलिस परिवार आंदोलन से जुड़े लोगों ने फिर से मुख्यमंत्री से गुहार लगाई है। मुख्यंत्री भूपेश बघेल साप्ताहिक अवकाश बंद करने के फैसले को लेकर नाराजगी भी जता चुके हैं।

छत्तीसगढ़ पुलिस विभाग में लंबे समय से बल की कमी बनी हुई है। वर्तमान में रायपुर जिले में करीब तीन हजार बल है, जबकि पांच सौ बल की कमी बनी हुई है। कोरोना के फैलते संक्रमण को रोकने लाकडाउन के दौरान सात सौ से अधिक जवानों ने 12 से 14 घंटे तक बिना छुट्टी लिए ड्यूटी की है। साप्ताहिक अवकाश तो दूर, जवानों को सरकारी छुट्टियों में भी ड्यूटी करने विवश होना पड़ता है।

जवानों का कहना है कि 14 घंटे ड्यूटी करने से कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन छुट्टी के दिनों में काम की क्षतिपूर्ति के रूप में साल में केवल एक माह का अलाउंस दिया जाता है, जबकि ड्यूटी एक माह से अधिक ली जाती है। अभी भी साइकिल भत्ता मिलता है, जबकि हर किसी के पास दोपहिया वाहन हैं। बाइक भत्ता दिया जा सकता है।

दिन-रात ड्यूटी कर रहे जवानों को छह घंटे की नींद भी नसीब नहीं हो पा रही है। कभी आधी रात तो तड़के ड्यूटी पर बुला लिया जाता है। कोरोना के साथ तनाव की जंग लड़ रहे जवानों को फिलहाल राहत मिलने की उम्मीद नहीं है।

ठंडे बस्ते में साप्ताहिक अवकाश

दो साल पहले राज्य सरकार ने निरीक्षक से लेकर सिपाही तक को साप्ताहिक अवकाश देने का फैसला लिया था। शुरूआत में कुछ महीने तक छुट्टी दी भी गई, लेकिन बाद में बल की कमी बताकर विभाग के अफसरों ने यह सुविधा भी बंद कर दी।

चार राज्यों के जवानों को मिल रहा लाभ, फिर यहां क्यों नहीं?

पुलिस सुधार के लिए आंदोलन कर रहे बर्खास्त आरक्षक राकेश यादव ने बताया कि घर-परिवार की चिंता छोड़कर दिन-रात की ड्यूटी करने वाले डीईएफ, सीईएफ, सहायक आरक्षक और गोपनीय सैनिकों को मिलाकर करीब 95 हजार जवानों को साप्ताहिक अवकाश का लाभ नहीं मिल रहा है।

जब मेघालय, दमन दीव, गुजरात और मध्यप्रदेश में पुलिस जवानों को छुट्टी मिल रही है, तो बल की कमी बताकर सूबे के सभी जिलों में यह सुविधा क्यों बंद की गई है। विभाग चाहे तो रोटेशन के आधार पर अवकाश दे सकता है। पुलिस परिवार की अन्य लंबित मांगों को लेकर मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया है। उन्होंने जल्द ही निराकरण करने का आश्वासन दिया है।