ब्रेकिंग
सफीदों रोड पर 4 लोगों ने किया हमला, कोर्ट के आदेश पर FIR 50 लोगों को ट्रॉली में बेठाकर सड़क पर दौड़ रहा ट्रैक्टर, मूकदर्शक बनी पुलिस नॉर्थ कोरिया ने जापान के ऊपर से दागी बैलिस्टिक मिसाइल विद्याधाम परिसर गूंज रहा मां पराम्बा के जयघोष एवं स्वाहाकार की मंगल ध्वनि से वीडियो वायरल : एयरपोर्ट पर करीना कपूर के साथ बदसलूकी.. इस देवी मंदिर में है 51 फीट ऊंचे दीप स्तंभ, जान जोखिम में डालकर इन्हें कैसे जलाते हैं मां वैष्णो के दरबार में पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह हर रूप में स्त्री का सम्मान करने से प्रसन्न होती हैं मां जगदंबा Navratri Durga Ashtami: दुर्गाष्टमी आज, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और कन्या पूजन महत्व Tuesday Ka Rashifal: आज नए काम न करें शुरू, यात्रा का मिलेगा मौका, पढ़ें अपना राशिफल

शिमला में भूस्खलन, 7 सेकंड में भरभरा कर गिरी 8 मंजिला इमारत, वीडियो वायरल

हिमाचल प्रदेश में छिटपुट भारी बारिश का दौर जारी है और इसके साथ ही पहाड़ों के दरकने और भूस्खलन की घटनाएं भी सामने आ रही हैं। ताजा मामला पर्यटन नगरी शिमला का है। यहां भूस्खलन के कारण 8 मंजिला इमारत महज 7 सेकंड में भरभरा कर गिर गई। गनीमत यह रही कि समय रहते खतरा पता चल गया था और इमारत को पूरी तरह खाली करवा लिया गया था। नीचे देखिए वीडियो। इमारत के ढहने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। राज्य आपदा प्रबंधन निदेशक सुदेश कुमार मोख्ता के अनुसार, यह घटना शिमला में हाली पैलेस के पास घोड़ा चौकी पर गुरुवार शाम 5.45 बजे हुई।

यह बिल्डिंग शिमला की उन इमारतों में शामिल थी, जिन्हें स्थानीय प्रशासन ने जर्जर और खतरनाक घोषित किया था। इस साल भारी बारिश का कारण बिल्डिंग की नींव हिल गई थी। यह भी कहा जा रहा है कि इमारत नियमों की अनदेखी कर बनाई गई थी। शिमला में 8 मंजिला इमारत बनाने की अनुमति नहीं है। वहीं जब यह इमारत ढही तो इसकी चपेट में आकर एक अन्य दो मंजिला इमारत को भी नुकसान पहुंचा।

हिमाचल में इस साल रिकॉर्ड भूस्खलन

बता दें, हिमाचल प्रदेश में इस साल भी बारी बारिश के कारण पहाड़ दरकने की कई घटनाएं सामने आई हैं। इस बार में मानसून के दौरान राज्य में भूस्खलन, बादल फटने और अचानक आई बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं में कम से कम 246 लोगों की मौत हो गई है।

सबसे बड़ा हादसा 11 अगस्त को किन्नौर में हुआ था। तब भूस्खलन के कारण 28 लोगों की मौत हो गई थी। राज्य में इस साल 13 जून से 30 जुलाई तक 35 बड़े भूस्खलन दर्ज किए जा चुके हैं, जो कि 2020 में 16 भूस्खलन की घटनाओं की तुलना में दोगुना है।

P