ब्रेकिंग
Essay Help From Licensed Authors Come affrontare Nervosismo estremo मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ महिला श्रमिक की मौत पर की खबर के बाद जागे परिवहन विभाग और ट्रैफिक पुलिस, नामली थाना क्षेत्र में की कार्रवाई AIIMS : ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर बैन अब तक 7 के शव बरामद, आईएएफ ने 2 चीता हेलीकॉप्टर किए तैनात, 8 लोगों का सफल रेस्क्यू क्या Pavitra Punia- Ejaz Khan ने  कर ली सगाई? दशहरे के दिन ही खुलता है रावण के इस मंदिर का द्वार खुद स्टार्ट किया पम्पिंग सेट, कहा- पशुओं में दूध की होती है वृद्धि हटाए गए कर्मियों को नौकरी देने की मांग, 19-20 को करेंगे भूख हड़ताल

दाता बंदी छोड़ गुरुद्वारे में सिंधिया ने टेका माथा, उपचुनाव पर बोले- आज पॉलिटिक्स नहीं…

ग्वालियर: केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया किला स्थित दाता बंदी छोड़ गुरुद्वारा में माथा टेकने पहुंचे। वे यहां दाता बंदी छोड़ गुरुद्वारे में आयोजित प्रकाश पर्व में शामिल हुए। सिंधिया ने गुरुद्वारे में आयोजित कार्यक्रम को ऐतिहासिक बताया और सिख समाज को इसके लिए बधाई दी।

मंगलवार को अचानक दिल्ली से केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर और दाता बंदी छोड़ गुरुद्वारे में माथा टेका। उन्होंने इस पर्व को लेकर ग्वालियर, सारे सिख समाज और विश्व के वासियों को बधाई दी। सिंधिया ने कहा कि मुझे माथा टेकने का सौभाग्य मिला। वहीं उपचुनाव पर पूछ सवाल पर सिंधिया ने कहा कि आज धार्मिक कार्यक्रम है राजनीतिक बात नहीं होगी।

आपको बता दें कि दाता बंदी छोड़ गुरुद्वारे से गुरु हरगोविंद सिंह ने यहां 52 हिंदू राजाओं को मुगल बादशाह जहांगीर की कैद से आजाद कराया था। उस उपलक्ष्य में 400 वर्ष पूर्ण होने पर दाता बंदी छोड़ प्रकाश पर्व का आयोजन किया गया है। सोमवार को सुबह आठ बजे गुरु ग्रंथ साहिब जी का पाठ शुरू हुआ।  इसमें लाखों की संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए हैं। तीन दिवसीय आयोजन है। आज प्रकाश पर्व का दूसरा दिन है।