ब्रेकिंग
Come affrontare Nervosismo estremo मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ महिला श्रमिक की मौत पर की खबर के बाद जागे परिवहन विभाग और ट्रैफिक पुलिस, नामली थाना क्षेत्र में की कार्रवाई AIIMS : ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर बैन अब तक 7 के शव बरामद, आईएएफ ने 2 चीता हेलीकॉप्टर किए तैनात, 8 लोगों का सफल रेस्क्यू क्या Pavitra Punia- Ejaz Khan ने  कर ली सगाई? दशहरे के दिन ही खुलता है रावण के इस मंदिर का द्वार खुद स्टार्ट किया पम्पिंग सेट, कहा- पशुओं में दूध की होती है वृद्धि हटाए गए कर्मियों को नौकरी देने की मांग, 19-20 को करेंगे भूख हड़ताल रेलवे स्टेशन पर रेलकर्मी को बदमाशों ने पीट-पीट कर किया घायल, की लूटपाट

कांग्रेस सरकार आने के बाद हिंदुत्व खतरे में: कौशिक

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि साल 1526 में बाबर का हिंदुस्तान आगमन हुआ। उन्होंने उसकी पूरी वंशावली का जिक्र किया। अकबर सभी धर्मों का सम्मान करने वाला बन गया। इसके साथ ही वह प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर आक्रामक हो गए। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आने के बाद से हिंदुत्व खतरे में आ गया है। छत्तीसगढ़ में राजा अकबर और उनके राज में पहली बार भगवा ध्वज कवर्धा में उतारने का काम हुआ।

अकबर के निर्देश पर झंडा फिर लगाया गया। मंत्री के निर्देश पर लगाने और हटाने का काम किया गया। नवरात्र से पहले ध्वज लगाए गए। अधिकारियों ने ध्वज निकलवाया। उसके बाद भीड़ ने मारपीट की। अधिकारियों के समाने मारपीट हुई, लेकिन कोई बीच-बचाव नहीं किया गया और न ही अशांति को रोकने की कोशिश की गई

कौशिक ने कहा कि चाकू से मारा गया, लेकिन शाम तक रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई। इस मामले में चार लोगों की गिरफ्तारी हुई है और अभी तक 76 हिंदुओं को गिरफ्तार कर लिया गया है। तलवार लहराने वालों पर कार्रवाई नहीं हुई। एक समुदाय को संरक्षण देकर सरकार बाकी लोगों को प्रताड़ित कर रही है। कवर्धा जल रहा, लोग दहशत में है। अधिकारियों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। विधायक अकबर अभी तक नहीं गए। मन साफ है, तो फिर क्यों नहीं गए। कांग्रेस सरकार आने के बाद हिंदुत्व खतरे में है।

भाजपा ने की तीन मांग

कवर्धा हिंसा के मामले में भाजपा ने तीन मांगें की हैं। न्यायिक जांच होनी चाहिए, दोषियों को गिरफ्तार किया जाए। दबाव में गिरफ्तार लोगों की बिना शर्त रिहाई होनी चाहिए।