ब्रेकिंग
एक महीने में हुए चार 'दुराचारी सभा' में पहुंचे सिर्फ 844 हिस्ट्रीशीटर,दरी पर बैठना उन्हें नहीं पसंद बोले- 5 साल से कर रहा था तैयारी, अब बना राजस्थान का टॉपर गुरु अमरदास एवेन्यू के निवासियों ने ब्लॉक किया जीटी रोड, MLA के खिलाफ प्रदर्शन भूप्रेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा गांधीवादी तरीके से करेंगे विरोध, सरकार रद्द करके अग्निपथ फर्जी दस्तावेज तैयार कर कब्जाई थी जमीनें, पुलिस की गिरेबान पर हाथ डालने के बाद आया था चर्चा में सनी नागपाल भुवनेश्वर कुमार तोड़ेंगे पाकिस्तानी गेंदबाज का रिकॉर्ड डेब्यू मैच में फ्लॉप रहे उमरान मलिक घर में रखा फ्रिज सिर्फ उपकरण नहीं, है वास्तु शास्त्र की रहस्मयी व्याकरण... इस दिशा में रखने से चमक जाता है भाग्य पंचायत के प्रथम चरण के चुनावों के बाद EVM का हुआ रेंडमाइजेशन  जी-7 समिट में हिस्सा लेने जर्मनी पहुंचे पीएम मोदी, प्रवासी भारतीयों ने गर्मजोशी से किया स्वागत

विक्रेताओं में भेदभाव नहीं कर सकते ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म, डाटा के इस्तेमाल के सिद्धांत तय करेगी सरकार

नई दिल्ली। उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआइआइटी) ने ई-कॉमर्स नीति के मसौदे में कहा है कि ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म अपने विक्रेताओं में भेदभाव नहीं कर सकते हैं। इसमें यह भी कहा गया है कि सरकार किसी उद्योग के विकास के लिए डाटा इस्तेमाल के सिद्धांत तय करेगी। साथ ही डाटा तक अनधिकृत व्यक्तियों की पहुंच और दुरुपयोग रोकने के लिए पर्याप्त उपाय किए जाएंगे। डीपीआइआइटी के शीर्ष अधिकारी की अध्यक्षता में शनिवार को हुई अंतर-मंत्रालयी बैठक में मसौदे पर विचार-विमर्श किया गया।

मसौदा नीति के मुताबिक सरकार निजी और गैर-निजी डाटा पर नियमन तैयार करने की प्रक्रिया में है। औद्योगिक विकास के लिए डाटा साझा करने को प्रोत्साहित किया जाएगा। मसौदे के मुताबिक सरकार ई-कॉमर्स, उपभोक्ता संरक्षण, राष्ट्रीय सुरक्षा और आर्थिक सुरक्षा के लिए डाटा के इस्तेमाल के सिद्धांत तय करेगी।

सरकार मानती है कि डाटा बेहद महत्वपूर्ण परिसंपत्ति है। भारत के डाटा इस्तेमाल का पहला अधिकार भारतीय इकाइयों का होगा। बैठक में कहा गया है कि ई-कॉमर्स परिचालकों को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनके द्वारा इस्तेमाल पक्षपातपूर्ण नहीं हो।

मसौदा नीत में यह भी

 उपभोक्ताओं को बिक्री के लिए पेश वस्तुओं और सेवाओं से जुड़ी सभी जानकारियां मिलनी चाहिए। उन्हें इसकी पूरी जानकारी देनी चाहिए कि संबंधित उत्पाद का मूल देश कौन सा है और भारत में इसमें क्या वैल्यू एडीशन किया गया है।

 ई-कॉमर्स कंपनियों को सुनिश्चित करना होगा कि उनके प्लेटफॉर्म से जाली उत्पाद नहीं बिकें। इसके उल्लंघन के मामले में जिम्मेदारी ऑनलाइन कंपनी और विक्रेता की होगी।