ब्रेकिंग
डोमेस्टिक का चार्ज लगेगा, बिजली बिलों में 2 रुपए प्रति यूनिट का मिलेगा फायदा एक महीने में हुए चार 'दुराचारी सभा' में पहुंचे सिर्फ 844 हिस्ट्रीशीटर,दरी पर बैठना उन्हें नहीं पसंद बोले- 5 साल से कर रहा था तैयारी, अब बना राजस्थान का टॉपर गुरु अमरदास एवेन्यू के निवासियों ने ब्लॉक किया जीटी रोड, MLA के खिलाफ प्रदर्शन भूप्रेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा गांधीवादी तरीके से करेंगे विरोध, सरकार रद्द करके अग्निपथ फर्जी दस्तावेज तैयार कर कब्जाई थी जमीनें, पुलिस की गिरेबान पर हाथ डालने के बाद आया था चर्चा में सनी नागपाल भुवनेश्वर कुमार तोड़ेंगे पाकिस्तानी गेंदबाज का रिकॉर्ड डेब्यू मैच में फ्लॉप रहे उमरान मलिक घर में रखा फ्रिज सिर्फ उपकरण नहीं, है वास्तु शास्त्र की रहस्मयी व्याकरण... इस दिशा में रखने से चमक जाता है भाग्य पंचायत के प्रथम चरण के चुनावों के बाद EVM का हुआ रेंडमाइजेशन

Bastar News : बस्तर जगार में दिखेगी खूबसूरत शिल्पकला

जगदलपुर। अखिल भारतीय शिल्प और सांस्कृतिक महोत्सव का आयोजन सोमवार से टाउनहाल मैदान में आरंभ होने जा रहा है। रविवार शाम शिल्प समितियों के द्वारा पत्रवार्ता लेकर जानकारी साझा की गई।

बताया गया कि 15 से 30 मार्च तक बस्तर जगार अखिल भारतीय शिल्प और सांस्कृतिक महोत्सव का आयोजन होगा जिसमें संध्या सांस्कृतिक प्रस्तुति देश के शिल्पकारों द्वारा दी जाएगी। पत्रवार्ता के दौरान लखनऊ से आए मुकेश प्रजापति ने मजबूत टेराकोटा शिल्प के बारे में जानकारी देते कहा कि राजस्थान से खास प्रकार की मिटटी का मिश्रण कर टेराकोटा शिल्प तैयार कर बस्तर और यूपी के कल्चर को जोड़ने का प्रयास उनके द्वारा किया जा रहा है।

पंखुडी सेवा समिति की खुशी सांतरा ने कला और संस्कृति के माध्यम से महिलाओं को आगे बढ़ाने की बात कही। उज्जैन से आई संध्या मोहंती ने कहा कि वे हर साल महोत्सव में आती हैं कलाकारों को हर बार लोगों से अच्छा प्रतिसाद प्राप्त होता है। परचनपाल की शिल्पकार मीना नागवंशी ने शिल्प कला के साथ-साथ कलाकारों के विकास पर जोर दिया तो संतोष जैन ने आयोजन से कलाकारों के उत्साह बढ़ने की बात कही। समाजसेवी मनीष मूलचंदानी ने जगार मेला को बस्तर की प्रतिभा को मंच देने का प्रयास बताते यहां के सभी कलाकारों को शामिल होने की अपील की।

यहां से आएंगे कलाकार

हस्तशिल्प बोर्ड प्रभारी बीके साहू ने बताया कि प्रदर्शनी में बस्तर के विश्वप्रसिद्ध बेलमेटल, लौह शिल्प, काष्ठ शिल्प, मिटटी शिल्प, शीशल शिल्प, कौड़ी शिल्प, आदिवासी पेंटिंग के अलावा विभिन्ना राज्यों से लगभग 120 शिल्पकार शिरकत करेंगे। यहां का मुख्य आकर्षण चंदेली साड़ी, धुरवा पाटा, आदिवासी साड़ी, दरकोजी वर्क, चिकन वर्क, जयपुरी लाख बैंगल, होमडेकोर, साउथ पर्ल, कारपेट, कश्मीरी शाल, सहारनपुर के फर्नीचर, नारायणपुर, बीजापुर, सुकमा, कोंटा, बिलासपुर के बांस शिल्प, कोसा साड़ी, फूलकारी, मरवाही शिल्प रहेंगे।